रेप से लेकर धोखाधड़ी तक: इन 6 स्कैंडल में फंस चुके हैं डोनाल्ड ट्रंप

Subscribe to Oneindia Hindi

न्यूयॉर्क। लगातार विवादों में रहे रिपबल्किन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप आखिरकार अमेरिका के राष्ट्रपति चुन लिए गए। हिलेरी क्लिंटन को हराकर इस पद पर कब्जा करने वाले ट्रंप का विवादों से पुराना नाता है। चुनाव प्रचार के दौरान उन पर करीब 15 महिलाओं ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया जिनमें एक 13 साल की नाबालिग भी शामिल है। ये है वो बड़े स्कैंडल जिनमें ट्रंप का नाम सामने आया-

1. कई महिलाओं के यौन उत्पीड़न के आरोप

1. कई महिलाओं के यौन उत्पीड़न के आरोप

2005 में एक वीडियो सामने आने के बहुत पहले से ही ट्रंप के खिलाफ यौन उत्पीड़न के मामले सामने आते रहे हैं। वीडियो में ट्रंप ने कहा था, 'महिला को सीधे प्राइवेट पार्ट से पकड़ो, फिर कुछ भी कर सकते हो।' इसके आगे भी ट्रंप ने कहा, 'मैं पहले उन्हें किस करना शुरू करता हूं। किस करना चुंबक का काम करता है। किस करने के बाद तो आप स्टार हो। फिर कुछ भी कर सकते हो।'

पढ़ें: राष्ट्रपति चुने जाने के बाद डोनाल्ड ट्रंप के भाषण की 10 खास बातें

जिल हार्थ नाम के महिला ने आरोप लगाया कि 1990 में ट्रंप ने उसका उत्पीड़न किया है। यही नहीं ट्रंप की पूर्व पत्नी इवाना ट्रंप ने उन पर मैरिटल रेप का भी आरोप लगाया था। हालांकि बाद में वह अपने बयान से मुकर गईं। दो महिलाओं ने ट्रंप पर अश्लीलता का आरोप लगाया उनमें से एक ने कहा कि ट्रंप ने 1970 में एक फ्लाइट में सफर के दौरान उसकी स्कर्ट पर हाथ रखा था, जबकि एक ने कहा कि ट्रंप ने उसे जबरन किस किया। फ्लोरिडा की एक महिला ने ट्रंप पर आपत्तिजनक तरीके से छीने का आरोप लगाया। कुछ नाबालिग लड़कियों ने भी ट्रंप पर आपत्तिजनक हरकतें करने का आरोप लगाया है। हालांकि ट्रंप ने खुद पर लगे सभी आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया। ट्रंप को रेप के एक मामले में कोर्ट में पेश होना है। यह केस दिसंबर में शुरू होगा।

2. ब्यूटी कॉन्टेस्ट स्कैंडल

2. ब्यूटी कॉन्टेस्ट स्कैंडल

1992 में अमेरिकन ड्रीम ब्यूटी कॉन्टेस्ट के आयोजक जॉर्ज हॉराने और जिल हार्थ ने आरोप लगाया कि डोनाल्ड ट्रंप ने उन्हें कॉन्टेस्ट के लिए आने वाली लड़कियों और मॉडल्स को एक पार्टी में लाने के लिए कहा था। उन्होंने लड़कियों के लिए आपत्तिजनक शब्दों का भी इस्तेमाल किया। यही नहीं, एक बार ट्रंप बिना बुलाए एक मॉडल के बेड तक पहुंच गए थे। ट्रंप ने हार्थ के साथ भी जबरदस्ती करने की कोशिश की थी। कॉन्टेस्ट खत्म होने के बाद ट्रंप के खिलाफ हार्थ ने शिकायत भी दर्ज कराई थी। इस केस में यह भी आरोप लगाया गया कि ट्रंप ने कॉन्टेस्ट में रंगभेद किया और काले रंग की महिला को हिस्सा नहीं लेने दिया। हालांकि कहा जा रहा है कि बाद में ट्रंप ने कुछ पैसे देकर मामला शांत कर दिया।

पढ़ें: 500-1000 के नोट बैन: इन 50 दिनों में किसकी होगी चांदी और किस पर आएगी आफत

3. नस्लीय भेदभाव का भी आरोप

3. नस्लीय भेदभाव का भी आरोप

डिपार्टमेंट ऑफ जस्टिस ने डोनाल्ड ट्रंप और उनके पिता फ्रेड के खिलाफ 1973 में भेदभाव के आरोप में केस किया था। उन पर न्यूयॉर्क की 39 हाउसिंग साइट्स पर ऐसी घटनाओं को अंजाम देने का आरोप था। विभाग ने कहा, 'हमें पता चला है कि ट्रंप के मैनेजर लोगों के रंग के आधार पर किराए पर घर देते हैं। यही नहीं कंपनी ने जाति और रंग के आधार पर अलग-अलग किराया और शर्तें तय कर रखी हैं।' ट्रंप ने खुद पर लगे आरोपों को घटिया बताया था। उन्होंने इस मामले में सरकार के खिलाफ ही केस कर दिया। हालांकि बाद में ट्रंप ने वादा किया कि वह ऐसा बर्ताव कभी नहीं करेंगे और केस खत्म हो गया।

VIDEO: 500-1000 के नोट बैन करने के बाद जारी हेल्पलाइन नंबर की पोल खुली

4. माफिया के साथ संबंध

4. माफिया के साथ संबंध

बीते सालों में कई बार डोनाल्ड ट्रंप का माफिया कनेक्शन भी सामने आया। कई बार ट्रंप के गुंडों और डकैतों से लिंक होने की बात भी खुली। ऐसा माना जाता था अमेरिका में कसीनो और कंस्ट्रक्शन कारोबार करने वाले शख्स को ऐसे लोगों की दोस्ती जरूरी होती थी। 80 के दशक में संगठित अपराध करने वाले गुटों ने न्यूयॉर्क में होने वाले निर्माण और कंकरीट बिजनेस पर नियंत्रण कर रखा था। यह भी आरोप लगा कि अटलांटिक सिटी में ट्रंप प्लाजा के निर्माण के लिए ट्रंप ने मार्केट से दोगुनी रकम दी थी। ट्रंप पर अमेरिका के सबसे खतरनाक माफिया रॉबर्ट लीबट्टी से भी गहरी दोस्ती रखने का आरोप लगा था। कहा जाता है कि ट्रंप ने रॉबर्ट के जन्मदिन पर उसे 9 लग्जरी कारें गिफ्ट की थीं। इन सारे आरोपों को लेकर ट्रंप कोर्ट भी गए लेकिन उन्हें किसी भी मामले में दोषी नहीं ठहराया जा सका। हालांकि ट्रंप प्लाजा पर रंगभेद के आरोप में 200000 डॉलर का जुर्माना लगाया गया था।

पढ़ें: 500-1000 के नोट पर मोदी सरकार के फैसले को इन पांच नेताओं ने कोसा

5. ट्रंप यूनिवर्सिटी स्कैंडल

5. ट्रंप यूनिवर्सिटी स्कैंडल

2005 में रीयल एस्टेट डेवलपमेंट के गुर सिखाने के नाम पर ट्रंप ने यूनिवर्सिटी शुरू करने का ऐलान किया। इसमें एक-एक छात्र से करीब 2327147 रुपये (35000 डॉलर) फीस ली गई। यहां छात्रों अमीर बनने के तरीके सिखाने का लालच देकर फंसाया जाता था। एक विज्ञापन में यह भी कहा गया था कि खास ट्रंप के चुने हुए इंस्ट्रक्टर रीयल एस्टेट के सीक्रेट्स की जानकारी देंगे। बाद में कई छात्रों ने यह आरोप लगाया कि ट्रंप यूनिवर्सिटी के नाम पर बड़ा घोटाला हुआ है। दरअसल यह यूनिवर्सिटी थी ही नहीं। 2010 में इसका नाम बदलकर ट्रंप एंटरप्रेन्योर इनीशिएटिव कर दिया गया। यह स्कूल न्यूयॉर्क के कानून के खिलाफ था क्योंकि बिना लाइसेंस के चल रहा था।

पढ़ें: मोदी सरकार के फैसले पर सुपरस्टार रजनीकांत का बड़ा बयान

6. चार बार दिवालिया हुए ट्रंप

6. चार बार दिवालिया हुए ट्रंप

1980 के दशक में डोनाल्ड ट्रंप ने जाली बॉण्ड का इस्तेमाल किया। वह ट्रंप ताजमहल बनाना चाहत थे। उन्होंने कसीनो बना लिया लेकिन ब्याज नहीं चुका पाने की वजह से 1991 में उनकी कंपनी को दिवालिया घोषित कर दिया गया। उन्हें न सिर्फ कसीनो के अपने आधे शेयर बेचने पड़ गए बल्कि एक याच और एयरलाइन भी बेचनी पड़ी।

एक साल बाद अटलांटिक सिटी में स्थित ट्रंप प्लाजा को करीब 550 मिलियन डॉलर का नुकसान हुआ और एक बार फिर सब कुछ गवां दिया। ट्रंप ने आगे के सालों में उबरने की कोशिश की लेकिन 2004 तक ट्रंप के होटल और कसीनो रिसॉर्ट पर 1.8 बिलियन डॉलर का कर्ज था। कंपनी ने फिर से दिवालिया होने का आवेदन किया और ट्रंप एंटरटेनमेंट रिसॉर्ट्स के नाम से फिर सामने आई। ट्रंप इसके चेयरमैन तो थे लेकिन कोई आधिकारिक फैसला लेने की क्षमता से बाहर थे।

पढ़ें: पाकिस्‍तान और चीन के खिलाफ क्‍या भारत को मिलेगा ट्रंप का साथ?

पांच साल बाद जब रीयल एस्टेट चौपट हुआ तो एक एक बार फिर कंपनी दिवालिया हुई और ट्रंप ने बोर्ड से इस्तीफा दे दिया। लेकिन कंपनी उनके नाम पर बनी रही। 2014 में ट्रंप ने कंपनी और कसीनो से अपना नाम हटाने के लिए अर्जी दी। जिनमें से एक पहले ही बंद हो चुकी थी और दूसरी कंपनी बंद होने की कगार पर थी।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
from marital rape to mafia links Donald trump was accused in many scandals .
Please Wait while comments are loading...