मौत का पिंजरा: यहां खूंखार मगरमच्छ के साथ रखा जाता है लोगों को

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। अगर कभी कोई कुत्ता सामने आ जाए तो भी अधिकतर लोग डर के मारे कांप उठते हैं। जरा सोचिए अगर आपके आस पास मगरमच्छ घूमें तो आप क्या करेंगे। कुछ ऐसा ही माहौल होता है ऑस्ट्रेलिया के क्रॉकोसॉरस कोव डार्विन का। आइए जानते हैं क्या होता है यहां।

crocodile

जानिए क्या है 5G इंटरनेट, 4G से 20 गुना ज्यादा है इसकी स्पीड

क्रॉकोसॉरस कोव डार्विन 2008 में शुरू हुआ था। इसमें करीब 200 बड़े मगरमच्छ हैं। इसमें कुछ खारे पानी के मगरमच्छ भी हैं। यहां पर दुनिया भर से लोग मगरमच्छ देखने के लिए आते हैं।

मौत का पिंजरा

इसे केज ऑफ डेथ (मौत का पिजंरा) कहा जाता है। इसमें लोगों को एक शीशे के बक्से में बंद करके पानी में डाल दिया जाता है, जिस पानी में भारी भरकम बड़ा सा मगरमच्छ होता है।

crocodile11

कभी चूहे भी पकड़ते थे पुतिन, जन्मदिन पर जानिए कुछ दिलचस्प बातें

ट्रेनर लगातार मगरमच्छ को कुछ न कुछ खिलाता रहता है। इस तरह से आप मगरमच्छ को पानी में इधर से उधर जाते देख सकते हैं। इसके अलावा ट्रेनर की कोशिश रहती है कि वह मगरमच्छ को आपके अधिक से अधिक नजदीक पहुंचा सके, ताकि आप उसे अच्छे से देख सकें।

15 मिनट खौफनाक

एक बार में आपको 15 मिनट के लिए पानी में मगरमच्छ के साथ रखा जाता है। शीशे के बक्से में एक या दो व्यक्ति ही एक बार में पानी में जा सकते हैं। इसकी सबसे अच्छी बात यह है कि आप किसी भी मगरमच्छ को हर तरफ से यानी 360 डिग्री से देख सकते हैं।

crocodile10

खुशखबरी: एयरटेल यूजर 25 रुपए में पाएं 1 जीबी डेटा, जानिए कैसे

मौत का यह पिंजरा हर रोज 12 बार अपनी सेवा देता है, मतलब रोजाना 12 बार मगरमच्छ के साथ समय बिताया जा सकता है। यह समय सुबह 9.30 से शुरू होता है और शाम को 5 बजे तक चलता है।

crocodile9

crocodile8

crocodile7

crocodile6

crocodile5

crocodile4

crocodile3

crocodile2

crocodile1

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
the cage of death of australia
Please Wait while comments are loading...