जयललिता के जाने से श्रीलंका के भी एक हिस्‍से में छाई उदासी

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

कोलंबो। नॉर्थ श्रीलंका में बसे तमिल पिछले दिनों से जयललिता के ठीक होने की दुआएं कर रहे थे। सोमवार को जब जया के निधन की खबर आई तो सब‍ हैरान थे। किसी को भरोसा नहीं हो पा रहा था कि अब जयललिता उनके बीच नहीं हैं।

jayalalithaa-death-sri-lanka-tamil.jpg

पढ़ें-जानिए जयललिता के बेटे सुधाकरन और उनके रिश्‍तों की दास्‍तां

काफी सम्‍मानित थीं अम्‍मा

श्रीलंका के उत्‍तरी प्रांत के हिस्‍से में बसे तमिलों के बीच जयललिता काफी लो‍कप्रिय थीं। यहां के मुख्‍यमंत्री सीवी विग्‍नेश्‍वरम ने सोमवार को जारी एक बयान में कहा कि जयललिता जिन्‍हें दिल का दौरा पड़ा, उन्‍होंने नॉर्दन हिस्‍से में बसे तमिलों का दिल जीत लिया था।

विग्‍नेश्‍वरम के मुताबिक उन्‍हें यहां के तमिल काफी प्‍यार करते थे और उनका काफी सम्‍मान करते थे।

यह उनका स्‍वभाव ही था कि उन्‍हें जो भी कहना होता था बिना डरे कह डालती थीं। नॉर्दन श्रीलंका के हिस्‍से में बसे तमिल सोमवार तक उनके ठीक होने के लिए प्राथर्नाएं कर रहे थे।

पढ़ें-सिर्फ एक वोट से जयललिता ने गिरा दी थी वाजपेयी की सरकार

तमिल शरणार्थियों के लिए कई वादे

इस वर्ष तमिलनाडु में हुए विधानसभा चुनावों से पहले जया की पार्टी एआईएडीएमके की ओर से घोषणा पत्र जारी किया गया था।

इस घोषणा पत्र में अम्‍मा ने कहा था कि वह उन तमाम लोगों के खिलाफ उचित कार्रवाई करेंगी जो श्रीलंक के तमिलों के नरसंहार के लिए जिम्‍मेदार हैं।

इसके अलावा वह श्रीलंकन तमिलों को राज्‍य में पूरे सम्‍मान और स्‍वतंत्रता के साथ रहने का मौका भी देंगी।

अम्‍मा ने श्रीलंका की सरकार से एक अलग तमिल राज्‍य बनाने की मांग की थी। इसके अलावा उन्‍होंने भारत सरकार से कहा था कि वह तमिलनाडु में कैंपों और कैंपों के बाहर पिछले कई वर्षों से रह रहे तमिलों को दोहरी नागरिकता प्रदान करे। 

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
North Sri Lankan Tamils are not able to believe that Jayalalithaa is no more.
Please Wait while comments are loading...