एक लड़की ने सुनाई दर्दभरी आपबीती: रेड लाइट एरिया में कितनी बदहाल होती है सेक्स वर्कर की जिंदगी

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। बेरोजगारी की वजह से जिस्मफरोशी के धंधे में उतरने वाली एक लड़की ने गंदी गलियों से निकलकर वहां की हकीकत बयां की है। उसने न सिर्फ रेड लाइट एरिया में होने वाले अपराधों और ज्यादतियों का खुलासा किया बल्कि महिलाओं के लाचारी का कैसे फायदा उठाया जाता है यह भी बताया।

नौकरी नहीं मिली तो लिया ये फैसला

नौकरी नहीं मिली तो लिया ये फैसला

डेली मेल के मुताबिक, 22 साल की उम्र में ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड स्थित रेड लाइट एरिया में वेश्यावृत्ति की शुरुआत करने वाली एलिस की कहानी में कई मोड़ आए। लॉ की पढ़ाई कर चुकी एलिस ने जब एक नौकरी गवां दी और दूसरी नौकरी मिलना मुश्किल हो गया तो उसने देह व्यापार में खुद को धकेल दिया।

पढ़ें: महिला को घर में कैद कर एक हफ्ते तक किया रेप, जबरन करवाता था गंदे काम

अब 28 साल की हो चुकी एलिस ने बताया कि उसने वहां जिस्म के बदतर इस्तेमाल को जाना और जब उसने इस सब के खिलाफ आवाज उठाई तो उसे बुरी तरह पीटा गया, टॉर्चर किया गया और रेप किया गया। वहां के दलालों को शक था कि उसकी वजह से दूसरी लड़कियां इस धंधे में आने से कतराएंगी।

ज्यादा पैसों और शानो-शौकत की चाह

ज्यादा पैसों और शानो-शौकत की चाह

एलिस ने बताया कि टीनएज में ही उसे ज्यादा पैसे कमाने की चाह ने वेश्यावृत्ति के लिए उकसाया। पैसे, मोबाइल, क्रेडिट और शराब के लिए वह जिस्म के धंधे से जुड़ी रही। उसने कहा, 'मेरे जैसे लोग ज्यादा पैसे कमाने के लिए देह व्यापार का रास्ता चुनते हैं। पांच साल की उम्र में मेरा यौन उत्पीड़न हुआ था। मेरे लिए यह रास्ता चुनना ज्यादा बुरा नहीं था. नौकरी गवांने के बाद मैंने कई जगह दूसरी नौकरी की तलाश की लेकिन जब कहीं नहीं मिली तो मैंने एक जगह बारटेंडर के लिए अप्लाई किया लेकिन हैरान तब रह गई जब मुझे वहां से स्ट्रिप डांसर का ऑफर मिला।'

पढ़ें: सलमान खान के बॉडीगार्ड शेरा पर लगे गंभीर आरोप, केस दर्ज

कुछ दिन में सब कुछ बदल गया

कुछ दिन में सब कुछ बदल गया

एलिस ने आगे कहा, 'एक शिफ्ट में काम करके मुझे पता चला कि बिना किसी एक्सपीरियंस के ज्यादा पैसे हैं, इसलिए मैंने मेनस्ट्रीम छोड़कर देह व्यापार में उतरने का ही फैसला लिया। शुरुआत में मुझे लगा कि मैं वाकई बेहद चालाक हूं। यह नौकरी काफी अच्छी लगी मुझे, यहां बहुत पैसा था, लोग मुझ पर ध्यान देते थे लेकिन एक हफ्ते में ही सब कुछ पीछे छूट गया। मेरा मालिक और यहां तक कि ग्राहक भी मेरे साथ मनमर्जी करने लगे। उन्हें लगता था कि पैसों के बदले कुछ भी किया जा सकता है।'

पढ़ें: उड़ते विमान में सो रही लड़की के साथ इस शख्स ने की गंदी हरकतें

विज्ञापन में कम बताई जाती थी उम्र

विज्ञापन में कम बताई जाती थी उम्र

दलालों ने उसे 19 साल की बताकर विज्ञापन दिया था। ग्राहक कम उम्र की लड़कियों की मांग करते थे। उम्र को लेकर सवाल इसलिए ज्यादा नहीं होते थे क्योंकि कानूनी मुश्किल में फंसने का भी डर होता है। एलिस ने कहा, 'मैं ग्राहकों की फैंटेसी से परेशान हो गई। उनकी डिमांड अजीब होती थी वे लोग दरिंदगी करते थे।' उसने कहा कि कई ग्राहक उसके पास सिर्फ इसलिए आए थे क्योंकि वे एक बच्ची के साथ संबंध बनाना चाहते थे या फिर उसके साथ छेड़छाड़ करना चाहते थे। एलिस ने बताया कि करीब 70 साल की उम्र के एक शख्स ने उससे बच्ची की तरह ड्रेस पहनने को कहा था और बातचीत के दौरान यह भी बताया था कि उसने अपनी बेटी के साथ छेड़छाड़ की है।

पढ़ें: नशे की लत के चलते जेल की हवा खाने वाले शख्स के करोड़पति बनने की कहानी

'ग्राहकों ने मुझे पीटा, मेरा रेप किया'

'ग्राहकों ने मुझे पीटा, मेरा रेप किया'

एलिस ने कहा, 'तमाम ग्राहकों की चाहत पर गौर करने के बाद मुझे पता चला कि वे आगे चलकर असल में मासूम बच्चों की जिंदगी खराब कर सकते हैं। वेश्यालय में यौन उत्पीड़न मेरी रोजाना की जिंदगी का हिस्सा बन गया था। ग्राहक मेरी मिन्नतों के बाद भी जबरदस्ती करते थे। एक शख्स ने मेरा गला दबा दिया था और रेप किया था। कई ग्राहक हिंसक हो जाते थे, उन्हें खुद पता नहीं होता कि वे क्या कर रहे हैं। ज्यादातर पोर्न फिल्मों का असर दिमाग पर लेकर आते हैं और उन्हें दोहराने की कोशिश करते हैं। कई बार ग्राहकों ने मुझे पीटा भी लेकिन मेरा मालिक चुप रहा। क्योंकि वहां हिंसा को नौकरी का हिस्सा माना जाता है।'

पढ़ें: चार साल तक हर हफ्ते में तीन बार करता था नाबालिग लड़की से रेप, कोर्ट ने दी ये सजा

आखिरकार मिला प्यार, बदल गई जिंदगी

आखिरकार मिला प्यार, बदल गई जिंदगी

तमाम सारी यातनाएं और ज्यादती को भुलाने के लिए उसने दूसरी लड़कियों के साथ शराब पीना शुरू कर दिया। कभी साथ बैठने पर वे सिर्फ वहां होने वाले टॉर्चर पर बातें करती थीं, कभी किसी ने प्यार या नौकरी के बेहतर होने की बात नहीं कही। 26 साल की उम्र में एलिस ने अपनी एक दोस्त को आपबीती सुनाई तो उसने उसे बेहतर बनने की सलाह दी और कहा कि वह कुछ अच्छा कर सकती है। 2014 में क्रिसमस के दौरान उसे अपनी जिंदगी का बेहतरीन साथी मिला। एलिस के नए साथी ने उसे इस बात का एहसास कराया कि उसे किसी भी इंसान को जिस्म बेचने की जरूरत नहीं है। इसके बाद उसने दोबारा इस धंधे में न लौटने का फैसला लिया।

पढ़ें: डोनाल्ड ट्रंप पर गंभीर आरोप लगाने वाली पॉर्न स्टार ने लॉन्च की ये सर्विस

कोई वेश्या अमीर नहीं बनती...सिर्फ कहानियां ही हैं

कोई वेश्या अमीर नहीं बनती...सिर्फ कहानियां ही हैं

एलिस ने कहा, 'आप तमाम महिलाओं का कहानियां सुनते होंगे जो देह व्यापार में रहकर आर्थिक रूप से मजबूत बन गई होंगी लेकिन इस धंधे में रहने के बावजूद मुझे ऐसी कोई महिला नहीं मिली।' उसने कहा कि अगर इस इंडस्ट्री से किसी को फायदा होता है तो वह हैं बार और होटलों के मालिक, मैनेजर, दलाल। एलिस ने 'प्रॉस्टीट्यूशन नैरेटिव: स्टोरीज ऑफ सरवाइवल इन द सेक्स ट्रेड' नाम की किताब में भी तमाम ज्यादतियों और मजबूरियों का जिक्र किया है। उसने कहा कि इस धंधे से जुड़े लोग उसे किताब को पब्लिश कराने से रोकने की कोशिश करते रहे लेकिन उसने हार नहीं मानी।

पढ़ें: पटना से अगवा किए गए बिजनेसमैन के दो बेटे मुक्त, 5 आरोपी गिरफ्तार

उसने कहा, 'मुझे नहीं पता था कि इस धंधे में उतरने का मतलब रेप होगा। मुझे वो सब करने को मजबूर किया जाएगा जो मैं नहीं करना चाहती। मैं नहीं जानती थी कि वहां काम करने वाली लड़कियां अपने साथ हुई ज्यादती को भूलने के लिए ड्रग्स और शराब का सहारा लेती हैं। अगर मुझे ये सब पता होता तो मैं कभी इस धंधे में कदम नहीं रखती।'

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
heartbreaking story of a girl who left red light area and prostitution due to assaults.
Please Wait while comments are loading...