सिक्किम में तनाव के बाद चीनी मीडिया ने जारी किया 1962 का एक आर्टिकल

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

बीजिंग। सिक्किम में भारत और चीन के बीच जारी तनाव पर ही चीन ने एक बार फिर से भारत को भड़काने वाली हरकत की है। चीन के सरकारी अखबार पीपुल्‍स डेली ने एक ऐसा आर्टिकल पब्लिश किया है जो चीन और भारत के बीच साल 1962 में हुई जंग से जुड़ा है। पीपुल्‍स डेली चीन की सरकार का अखबार है और उसकी नीतियों को ही आगे बढ़ाता है।

 सिक्किम में तनाव के बाद चीनी मीडिया ने जारी किया 1962 का एक आर्टिकल

22 सितंबर 1962 को छपा था आर्टिकल

यह आर्टिकल 22 सितंबर 1962 को पब्लिश हुआ था और इस आर्टिकल के जरिए चीन ने एक बार फिर से भारत पर उसे भड़काने का आरोप लगाया है। चीन का कहना है कि भारत फिर से वही काम कर रहा है। इस आर्टिकल में लिखा है कि अब अगर भारतीय सेना ने चीन को उकसाया तो इस बर्दाश्‍त नहीं किया जाएगा। इस आर्टिकल में चीन की मीडिया ने 'क्षेत्रीय उकसावे' पर भारत को चेतावनी दी है। 10 जुलाई को चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने गेंग शुआंग ने कहा था कि अगर भारतीय जवान लंबे समय तक क्षेत्र में टिकने के इरादे से आ रहे हैं, तो ऐसे में कूटनीतिक समाधान कैसे ढूंढा जा सकता है? भारत को बिना किसी शर्त के अपने जवान वहां से हटाने होंगे।

पहले भी मीडिया ने दी है धमकी

इससे पहले भी चीन की मीडिया ने डोकलाम बॉर्डर को लेकर एक और चीनी मीडिया संस्थान ने बीते सोमवार को भारत को धमकाने की कोशिश की। चीन के एक और सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने 10 जुलाई को तिब्बती झंडा फहराए जाने का उल्लेख करते हुए लिखा है था कि अगर भारत ने डोकलाम विवाद पर तिब्बत कार्ड खेला तो पूरा भारत खुद जल जाएगा। शुक्रवार को सिक्किम में जारी तनाव के मद्देनजर चीन ने भारत में रह रहे अपने नागरिकों को ट्रैवेल एडवाइजरी जारी कर दी है। चीन की ओर से जारी एडवाइजरी में नागरिकों से कहा गया है कि वे अपनी व्‍यक्तिगत रक्षा और स्‍थानीय सुरक्षा स्थिति का ध्‍यान रखें। सात जुलाई को नई दिल्‍ली में चीन के दूतावास की ओर से यह नोटिस जारी किया गया है। पिछले एक माह से दोनों देशों के बीच इस तरह का तनाव जारी है।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
The People's Daily posted a photograph of the newspaper's editorial from September 22, 1962, written days before the India-China war.
Please Wait while comments are loading...