भारत को पछाड़ चीन निकला आगे, बनाया ये लड़ाकू विमान

Subscribe to Oneindia Hindi

बीजिंग। चीन के पहले स्टेल्थ लड़ाकू विमान J-20 की तस्वीरें प्रतिबंधित चीनी सोशल मीडिया साइट्स पर आई हैं, जिन पर चीनी वायुसेना के निशान और सीरियल नंबर भी डाले गए हैं।

इन तस्वीरों से यह स्पष्ट पता चल रहा कि यह स्टेल्थ विमान चीनी वायुसेना की स्क्वाड्रन सर्विस का हिस्सा बनने जा रहा है।

अग्नि-5 के फाइनल परीक्षण की तैयारी पूरी, चीन को निशाने पर लेने की है क्षमता

 china

(तस्वीर उड्डयन विशेषज्ञ दाफेंगे काओ के ट्विटर हैंडल से साभार- @xinfengcao)

सोशल मीडिया के जरिए बाहर आईं तस्वीरें

लड़ाकू विमानों की जो तस्वीरें सोशल मीडिया के जरिए बाहर आई हैं, उन पर 78721 और 78724 अंक भी लिखे हुए हैं। संभावना है कि इन विमानों को उत्तरी मध्य चीन में मौजूद डिंगशिन एयरफोर्स बेस की 176 वीं ब्रिगेड का हिस्सा बनाया जाएगा।

बता दें कि डिंगशिन एयरफोर्स का यह वही बेस है जहां से पीपुल लिबरेशन आर्मी एयरफोर्स (PLAAF) अपने विमानों का परीक्षण करता है।

सेना पर खर्च के मामले में दुनिया में चौथे नंबर पर भारत, जानिए कौन है हमसे आगे

 china

इस माह शामिल हो सकते हैं ये विमान

चीन में उड्डयन विशेषज्ञ दाफेंगे काओ के अनुसार इसी माह एक समारोह के दौरान 6 J-20 स्टेल्थ विमानों को सेना में शामिल किया जाएगा।

गौरतलब है कि अक्टबूर के आखिरी में इन विमानों को एक एयर-शो के दौरान सार्वजनिक किया गया था।

इस विमान की खासियत है कि यह रडार को भी चकमा दे सकता है। वहीं बात अगर भारतीय वायुसेना की करें जो चीनी सैन्य विमान क्षेत्र में हो रही हलचल और उसके विकास पर अपनी पैनी नजर बनाए हुए है वो इस तरह की तकनीक को विकसित करने में फिलहाल अक्षम है। उसे स्टेल्थ विमान सरीखे रडार को चकमा देने वाले विमान बनाने में कई साल लगेंगे।

एनएसजी में एंट्री और आतंकी मसूद अजहर पर कार्रवाई को लेकर भारत का समर्थन नहीं करेगा चीन

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Pictures of J-20 Chiense Fighter plane came out on banned social media
Please Wait while comments are loading...