उत्तर कोरिया के पास होंगे 20 परमाणु बम, सब पाकिस्तान का किया धरा!

Subscribe to Oneindia Hindi

सियोल। उत्तर कोरिया को पास 2016 के अंत तक इतना प्लूटोनियम और यूरेनियम हो जाएगा जिससे वह 20 परमाणु बम बना सकता है। इसके लिए उत्तर कोरिया ज्यादा से ज्यादा यूरेनियम बना रहा है और प्लूटोनियम के भंडार को और ज्यादा बढ़ा रहा है। पाकिस्तान के वैज्ञानिक अब्दुल कादिर खान ने 1990 से 1998 के बीच उत्तर कोरिया को यूरेनियम संवर्धन और परमाणु बम बनाने की तकनीक बेची थी।

READ ALSO: उत्‍तर कोरिया को जवाब देने के लिए अमेरिका के परमाणु बमों से लैस विमानों ने भरी उड़ान

yongbyon nuclear facility

एक साल में 6 परमाणु बम बना सकता है उत्तर कोरिया

हथियार विशेषज्ञों का कहना है कि संयुक्त राष्ट्र संघ के प्रतिबंधों का उल्लंघन कर उत्तर कोरिया यूरेनियम संवर्धन की इतनी क्षमता विकसित कर चुका है कि उससे वह हर साल 6 परमाणु बम बना सकता है। 2016 के अंत तक उत्तर कोरिया के पास 20 परमाणु बनाने लायक यूरेनियम और प्लूटोनियम हो जाएंगे।

उत्तर कोरिया की ताकत का आंकलन मुश्किल

फिलहाल उत्तर कोरिया के पास कितनी परमाणु क्षमता है, इसका सही सही आंकलन संभव नहीं है क्योंकि वह सबकुछ गुप्त रूप से कर रहा है। पिछले सप्ताह उत्तर कोरिया ने पांचवां परमाणु परीक्षण किया था और दक्षिण कोरिया का कहना है कि वह छठा परमाणु परीक्षण करने वाला है।

इससे पता चलता है कि उत्तर कोरिया के पास यूरेनियम और प्लूटोनियम की कोई कमी नहीं है।

पिछले दस साल से लगातार यूरेनियम बना रहा है उत्तर कोरिया

उत्तर कोरिया के न्यूक्लियर प्रोग्राम के विशेषज्ञ सिगफ्राइड हेकर का कहना है कि उत्तर कोरिया के पास प्रचूर मात्रा में यूरेनियम है और वह चुपके चुपके पिछले दस सालों से यूरेनियम संवर्द्धन के प्रोजेक्ट में लगा हुआ है।

इस प्रोजेक्ट का कोरिया ने काफी विस्तार किया है और उसके पास 2016 के अंत तक लगभग 150 किलोग्राम उच्च कोटि के यूरेनियम होंगे जो छह परमाणु बम बनाने के लिए पर्याप्त हैं।

हेकर की रिपोर्ट वाशिंगटन के जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के वेबसाइट पर छपी है। हेकर 2010 में उत्तर कोरिया के योंगब्योन न्यूक्लियर फैसिलिटी देखने गए थे।

उत्तर कोरिया के पास लगभग 54 किलो का प्लूटोनियम भंडार

हेकर का कहना है कि उत्तर कोरिया के पास 32 से 54 किलो का प्लूटोनियम भंडार है जिसे वह 2016 के अंत तक 20 परमाणु बम बनाने की क्षमता रखेगा। दक्षिण कोरिया के रक्षा मंत्री हान मिन कू ने भी उत्तर कोरिया के पास 40 किलो प्लूटिनयम होने का अनुमान लगाया था।

उत्तर कोरिया की परमाणु क्षमता के पीछे पाकिस्तान का हाथ!

उत्तर कोरिया के यूरेनियम संवर्धन प्रोग्राम का पहली बार खुलासा 2003 में हुआ था जब अमेरिका ने सबूतों के साथ यह बताया था कि पाकिस्तान की मदद से उत्तर कोरिया इस प्रोग्राम को गुप्त रूप से चला रहा है और उसने यूरेनियम एनरिचमेंट फैसिलिटी का निर्माण किया है।

पाकिस्तानी वैज्ञानिक ने उतर कोरिया को दी थी परमाणु तकनीक

1999 में पूर्व पाकिस्तानी राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने यह खुलासा किया था कि पाकिस्तान के परमाणु प्रोग्राम के संस्थापक अब्दुल कादिर खान ने उत्तर कोरिया को यूरेनियम संवर्धन के लिए दो दर्जन सेंट्रीफ्यूज के साथ-साथ परमाणु बम से जुड़ी कुछ तकनीके बेची थीं।

उत्तर कोरिया का सेंट्रीफ्यूज पाकिस्तान के पी2 की तरह

हथियार विशेषज्ञ हेकर का कहना है कि उत्तर कोरिया के पास यूरेनियम संवर्धन के लिए जो सेंट्रीफ्यूज हैं वह पाकिस्तान के पी 2 सेंट्रीफ्यूज से मेल खाते हैं। इससे पता चलता है कि पाकिस्तान की मदद से उत्तर कोरिया ने इतनी परमाणु क्षमता विकसित कर ली है। उत्तर कोरिया के योंगब्योन न्यूक्लियर फैसिलिटी देखकर आ चुके हेकर ने बताया कि वहां एक उत्तर कोरियाई इंजीनियर ने उनसे कहा कि इस फैसिलटी में ऐसे 2000 सेंट्रीफ्यूज हैं।

READ ALSO: उत्तरी कोरिया पर प्रतिबंध लगा सकता है अमेरिका, जानिए क्यों

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
North Korea will have enough uranium and plutonium to make 20 nuclera bombs by the end of 2016.
Please Wait while comments are loading...