प्रचंड के दौरे पर नेपाल को यह ऑफर दे सकता है भारत

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। नेपाल के प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहल प्रचंड के भारत दौरे को केंद्र सरकार भुनाना चाहती है।

nepal india

जानकारों की मानें तो केंद्र की भाजपा नीत सरकार नेपाल को पूर्व पश्चिम रेलवे लाइन को विकसित करने में मदद करने का ऑफर दे सकती है।

गौरतलब है कि चीन का नेपाल में बढ़ रहे दखल के दौरान भारत का यह कदम अहम साबित हो सकता है।

पीएम बनने के बाद पहला दौरा कर रहे हैं प्रचंड

बता दें कि एक समय में विद्रोही कमांडर रहे प्रचंड ने पीएम बनने के बाद पहला दौरा भारत कर रहे हैं। वो चाहते हैं कि भारत के साथ नेपाल के रिश्ते फिर से बेहतर हो सकें।

वहीं नेपाल के पूर्व पीएम केपी.शर्मा ओली के बारे में माना जाता था कि वो चीन समर्थक हैं। उन्होंने कुछ ऐसे समझौते किए थे, जिसका सीधा मकसद था कि नेपाल की निर्भरता कम हो सके।

इतना ही नहीं बीती सरकार ने भारत पर आरोप लगाया था कि भारत ईंधन और कारोबार पर रोक लगा रहा है।

कल से दौरे पर हैं प्रचंड

बता दें कि प्रचंड का दौरा बृहस्पतिवार (15 सितंबर) से शुरू हो रहा है। इससे पहले प्रचंड ने काठमांडू में कहा था कि भारत और नेपाल का रिश्ता कुछ वक्त के लिए ठंडा पड़ गया था।

उन्होंने कहा था कि वो भारत नेपाल के बीच रिश्ते की कड़वाहट दूर करना चाहते हैं।

इससे पहले बता दें कि भारतीय रेलवे के एक अधिकारी ने बताया कि जिस रेल लाइन को विकसित करने की बात कही जा रही है वो 1,030 किलोमीटर की है। दोनों मुल्क इसकी आर्थिक शर्तों पर चर्चा कर रहे हैं।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Nepal Prime Minister Prachanda visit on thursday.
Please Wait while comments are loading...