मिनीस्कर्ट पहनने पर मुस्लिम महिला को मारे गए 40 कोड़े, जेल में बंद कर लड़कियों का उत्पीड़न

युवती ने फैशन डिजाइनर के रूप में करियर बनाया। साल 2012 में उसे न्यूजवीक ने दुनिया की सबसे साहसी महिलाओं की लिस्ट में शामिल किया है।

Subscribe to Oneindia Hindi

तेहरान। मिनीस्कर्ट पहनने की वजह से 40 कोड़े मारे जाने की सजा भुगतने वाली महिला ने अपने विरोधियों को मुंहतोड़ जवाब देते हुए अपना करियर फैशन डिजाइनर के रूप में बनाया। टाला रास्सी नाम की इस महिला ने बताया कि 16 साल की उम्र में उसे 40 कोड़े मारे गए थे। यही नहीं, उसके साथ कुछ लड़कियों और लड़कों के साथ भी उत्पीड़न हुआ।

पढ़ें: मुंबई में जिस्मफरोशी के सबसे बड़े रैकेट का भंडाफोड़, ये है इनसाइड स्टोरी

दुनिया की सबसे साहसी महिलाओं में शामिल

दुनिया की सबसे साहसी महिलाओं में शामिल

डेली मेल के मुताबिक, टाला रास्सी ने बताया कि तब वह तेहरान में रहती थी और एक पार्टी में शामिल होने के लिए उसने मिनीस्कर्ट पहनी थी। सजा से खफा टाला ने न सिर्फ देश छोड़ दिया बल्कि अपने विरोधियों को तगड़ा जबाव देते हुए फैशन डिजाइनर के रूप में करियर बनाया। उसने खुद की बनाई स्विमवियर लॉन्च की और हाल ही में अपनी पहली किताब भी लिखी है। साल 2012 में उसे न्यूजवीक ने दुनिया की सबसे साहसी महिलाओं की लिस्ट में शामिल किया था। इस लिस्ट में हिलेरी क्लिंटन और ओपरा विनफ्रे जैसी महिलाएं भी थीं।

पढ़ें: बहन के प्रेमी को कमरे में बंद कर दो लड़कों ने किया निर्वस्त्र, वीडियो हुआ वायरल

दोस्त के घर में चल रही थी पार्टी

दोस्त के घर में चल रही थी पार्टी

टाला ने फैसला लिया कि वह अपना करियर फैशन में बनाएगी और इस मुहिम को आगे बढ़ाएगी कि महिलाओं को अपनी मर्जी से कपड़े पहनने की आजादी है। वह बिना किसी से डरे अपनी मर्जी से कपड़े पहन सकें। अब 35 साल की हो चुकी टाला ने बताया कि 1998 में वह एक दोस्त के घर पार्टी में गई थी, जहां खुद को इस्लाम का रक्षक बताने वाले एक संगठन ने वहां धावा बोला था।

पढ़ें: ISIS आतंकियों ने की दरिंदगी, तेजाब से जलाए लड़कियों के कई अंग

पार्टी में कुछ भी नहीं था आपत्तिजनक

पार्टी में कुछ भी नहीं था आपत्तिजनक

टाला ने बताया कि बासिज नाम के इस संगठन ने पार्टी की जगह का हर कोना छान मारा लेकिन उन्हें कहीं ड्रग या शराब नहीं मिली। उन्हें सिर्फ वहां विदेशी वीएचएस टेप, सैटेलाइट टीवी और कुछ गानों की सीडी के अलावा पोस्टर भी मिले। इसके बावजूद वे लोग वहां मौजूद लड़के लड़कियों को तेहरान के सबसे कुख्यात वोजारा डिटेंशन सेंटर में ले गए। इस पूरे घटनाक्रम के दौरान सभी लड़के-लड़कियों के माता-पिता ने अधिकारियों को रिश्वत देकर उन्हें छुड़ाने की कोशिश की लेकिन कोई बात नहीं बनी।

पढ़ें: सड़क किनारे किस रहा था कपल, तीन लड़कियों ने जमकर की पिटाई

मिनीस्कर्ट और टाइट टॉप पर भड़के

मिनीस्कर्ट और टाइट टॉप पर भड़के

डिटेंशन सेंटर में ले जाने के बाद सभी को जेल में डाल दिया गया और उनके साथ आतंकियों जैसा बर्ताव किया गया। टाला ने कहा, 'वे मुझे एक पापी, अपराधी और नास्तिक के रूप में देख रहे थे। हमारे साथ ऐसा बर्ताव हो रहा था जैसे हम किसी आतंकी साजिश में शामिल हों।' संगठन के लोगों ने सभी के हाथ बांध दिए थे और सभी की ड्रेस पर कमेंट कर रहे थे। टाला की मिनीस्कर्ट, टाइट टॉप, नेल पॉलिश और मेकअप की वजह से वे और ज्यादा भड़के और उसे व उसकी सहेलियों को 40 कोड़े मारने की सजा सुनाई गई।

पढ़ें: महिला टीचर ने नाबालिग छात्र से बनाए शारीरिक संबध, गिरफ्तार

रात भर गूंजती रही चीखें

रात भर गूंजती रही चीखें

टाला ने बताया कि ऐसा पहली बार नहीं था कि उसने मेकअप किया हो या ऐसे कपड़े पहने हों। लेकिन ऐसा पहली बार था कि उससे ऐसे सवाल किए गए हों। जेल में पहली रात उसके साथ पकड़ी गई अन्य लड़कियों को टॉर्चर किया गया। उनकी चीखें वहीं गूंजती रहीं, लेकिन वे लोग शांत नहीं हुए और बुरा बर्ताव करते रहे। उन्होंने लड़कों को 50 कोड़े मारने की सजा सुनाई। टाला ने बताया कि उसकी एक दोस्त को चमड़े के बेल्ट से पीटा गया था। उनके साथ इतनी ज्यादती हुई कि कई हफ्तों वे ठीक से बैठ भी नहीं पाईं। इस घटना के बाद टाला के परिवार ने देश छोड़ने का फैसला लिया। पहले वे लोग दुबई गए और फिर वाशिंगटन में जा बसे। टाला ने वहां अंग्रेजी सीखी और तमाम बाधाओं से लड़कर अपना करियर बनाया।

पढ़ें: छोटे कपड़े पहनती थी बेटी, बाप ने सजा देने के लिए किया रेप

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
tehran muslim girls tortured and sentenced 40 lashes for wearing miniskirt.
Please Wait while comments are loading...