रेप के बाद शादी करने पर मिलती है छूट, कैसा है ये अंधा कानून

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्‍ली। इन दिनों अरब देशों की राजधानी की सड़कों पर दुल्‍हनों के कपड़े लटकते नजर आ रहे हैं। ऐसा इसलिए क्‍योंकि वहां रेप को लेकर बनाए गए कानून का विरोध हो रहा है। यह विरोध अरब में महिलाओं के लिए आवाज उठाने वाली एक संस्‍थान कर रही है। संस्‍थान का कहना है कि हमारे रेप को आप सफेद कपड़ों (दुल्‍हन का लहंगा/गाउन) से ढक नहीं सकते हैं।

क्‍या है कानून

क्‍या है कानून

अरब के लोगों को जागरूक करने के संस्थान ने यह कदम उठाया है। कई खाड़ी देश और लेबनान में रेप को लेकर कानून है कि अगर रेप करने वाला पीड़िता से शादी कर लेता है तो उस पर कोई आपराधिक मामाल नहीं चलेगा। एक पीड़ित के भाई ने इस कानून को घोटाला बताया था। उन्होंने कहा था कि यह कानून पुरुषवादी सोच को दर्शाता है, जो महिलाओं को मात्र भोग का एक माध्य समझता है।

लेबनान और जॉर्डन ने इस कानून को लागू किया

लेबनान और जॉर्डन ने इस कानून को लागू किया

2014 में मोरोक्को ने एक ऐसा प्रावधान प्रस्तावित किया, जिसमें आरोपी को बतौर सजा रेप पीड़ित से शादी करनी होगी। जिसके बाद लेबनान और जॉर्डन सरकार ने इस कानून को लागू कर दिया।

क्‍या है पीडि़ता की कहानी

क्‍या है पीडि़ता की कहानी

पीडि़ता का नाम बासमा मोहम्मद लतीफा था। तीन साल पहले दक्षिण लेबनान के एक गांव में एक व्यक्ति ने लतीफा के साथ रेप किया। उस शख्स की उम्र लतीफा के दोगुनी थी। लतीफा का परिवार पुलिस के पास नहीं गया, उन्होंने इस बात पर सहमती बना ली कि वह शख्स लतीफा से शादी करेगा। लेकिन जून की एक रात उस शख्स ने ऐसा कदम उठाया जिसके बारे में परिवार ने कभी सोचा तक नहीं था। रजमान के दौरान आरोपी लतीफा के भाई के घर पर आया, जहां लतीफा रूकी हुई थी, और उसे नौ बार गोली मारी। लतीफा की मौत 22 साल की उम्र में हुई।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Marry your rapist law on way out in Arab world.
Please Wait while comments are loading...