जानिए क्‍या है G-20 जहां है पीएम मोदी और राष्‍ट्रपति ओबामा की आखिरी मुलाकात

By:
Subscribe to Oneindia Hindi

झेजियांग। चार से पांच सितंबर तक चीन के झेजियांग प्रांत के हैंगझोऊ में 11वीं जी-20 समिट का आयोजन होने वाला है। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी विएतनाम यात्रा को पूरा कर तीन सितंबर हो यहां पहुंचेंगे। यही वह जगह हैं जहां पर पीए मोदी आखिरी बार अमेरिकी राष्‍ट्रपति बराक ओबामा से मुलाकात करेंगे।

all-about-g-20-china.jpg

पढ़ें-सीरिया से 500 किमी दूर पीएम मोदी ने दिया आतंक से लड़ने का फॉर्मूला

1999 में हुई शुरुआत

वर्ष 1999 में पहली बार जी-20 की शुरुआत हुई और इस वर्ष 11वें जी-20 समिट का आयोजन हो रहा है। इसे शुरू करने का मकसद अंतराष्‍ट्रीय स्‍तर पर वित्‍तीय स्थिरता को आगे बढ़ाने से जुड़ी नीतियों का अध्‍ययन करना और उनका
मूल्‍यांकन करना है।

पढ़ें-यूनाइटेड नेशंस से जुड़े इन 20 तथ्‍यों के बारे में जानते हैं आप?

जी 20 को द्वितीय विश्‍व युद्ध के बाद आर्थिक सुधारों के लिए शुरू किए गए कई अहम कार्यों में से एक करार दिया गया था। पिछले वर्ष यानी दिसंबर 2015 में टर्की के अंटालया में जी-20 समिट का आयोजन हुआ था।

आइए आपको बताते हैं कि आखिर जी-20 है क्‍या और कौन-कौन से देश इसका हिस्‍सा हैं और क्‍यों आज यह एक ऐसा इंटरनेशनल मंच बन गया जहां हर कोई जाना चाहता है।

क्‍या जी-20 समिट

जी-20 या ग्रुप ऑफ ट्वेंटी, 20 देशों के वित्‍त मंत्री और सेंट्रल बैंक के गर्वनर्स वाले एक संगठन की शुरुआत वर्ष 1999 में की गई। इसे ही जी-20 कहा गया जिसका मकसद वैश्विक अर्थव्‍यस्‍था से जुड़े अहम मुद्दों को एक ही मंच पर लाकर
उस पर चर्चा करना था।

पहली जी-20 समिट

पहली जी-20 समिट का आयोजन दिसंबर 1999 में जर्मनी की राजधानी बर्लिन में हुआ था। इसे जर्मनी और कनाडा के वित्‍त मिलकर किया था।

कौन-कौन से देश सदस्‍य

जी-20 में अर्जेंटीना, ऑस्‍ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, चीन, फ्रांस, जर्मनी, भारत, इंडोनेशिया, इटली, जापान, मैक्सिको, रूस, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, टर्की, यूनाइटेड किंगडम और अमेरिका जैसे सदस्‍य शामिल हैं।

पढ़ें-यूएन में पी5, जी4 का मतलब और पी5 देशों की ताकत

यूरोपियन यूनियन का रोल

ग्रुप में बची बाकी सीट यूरोपियन यूनियन के हिस्‍से में होती हैं जिसका प्रतिनिधित्‍व यूरोपियन सेंट्रल बैंक और यूरोपियन यूनियन के अध्‍यक्ष करते हैं।

कब-कब होती है मुलाकात


वर्ष में एक बार जी-20 के वित्‍त मंत्रियों और सेंट्रल बैंक के गर्वनरों की मुलाकात होती है। हालांकि वर्ष 2009 और 2010 में जब दुनिया में मंदी जारी थी उस समय मुलाकात दो बार हुई थी।

कौन होता है अध्‍यक्ष

जी-20 की कोई स्‍थायी सीट नहीं है और इसके सदस्‍यों के बीच अध्‍यक्षता का आदान-प्रदान होता रहता है। हर वर्ष इसका चयप क्षेत्रीय संगठनों की ओर किया जाता है।

कितनी संख्‍या

जी-20 के सदस्‍य दुनिया की दो तिहाई जनसंख्‍या का प्रतिनिधित्‍व करते हैं।

कैसे होती है मीटिंग

जी-20 देशों के राष्‍ट्राध्‍यक्षों की मीटिंग और वित्‍त मंत्रियों और सेंट्रल बैंक के गर्वनर्स की मीटिंग अलग-अलग होती है।

कहां-कहां हो चुकी जी-20 समिट

वर्ष 2008-वाशिंगटन, अमेरिका
वर्ष 2009-लंदन, यूके
वर्ष 2009-पिट्सबर्ग, पेंसल्विनया
वर्ष 2010-टोरंटो, कनाडा
वर्ष 2011-सियोल, साउथ कोरिया
वर्ष 2011-कांस, फ्रांस
वर्ष 2012-मैक्सिको
वर्ष 2013-सेंट पीट्सबर्ग, रूस
वर्ष 2014-ब्रिसबेन, ऑस्‍ट्रेलिया
वर्ष 2015-अंटालया, टर्की

अब कहां-कहां

वर्ष 2016- हैंगझोऊ, झेजियांग, चीन
वर्ष 2017- हैंमबर्ग, जर्मनी
वर्ष 2018- ब्‍यूनसआयर्स, अर्जेंटीना

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
From 4th September to 5th September city of Hangzhou, Zhejiang, China will be hosting 11th G-20 meeting. Indian Prime Minister Narendra Modi will leave for China on 3rd September.
Please Wait while comments are loading...

LIKE US ON FACEBOOK