#internautDay WWW 25 बरस का, जाने कैसे हुई थी शुरुआत

By:
Subscribe to Oneindia Hindi

लंदन। क्‍या आज आप इंटरनेट के बिना अपने एक भी पल की कल्‍पना कर सकते हैं। शायद नहीं और अब जरा सोचिए कि आज से 25 वर्ष पहले ब्रिटिश साइंटिस्‍ट टिम बेरनर्स ली ने अगर अपने इंटरनेट का प्रयोग हर व्‍यक्ति को करने की मंजूरी नहीं दी होती तो क्‍या होता? आज इसी इंटरनेट के वर्ल्‍ड वाइड वेब ने अपने 25 वर्ष पूरे कर लिए हैं और दुनिया इंटरनॉट डे सेलिब्रेट कर रही है।

www-internet-internaut-day

क्‍या है इंटरनॉट डे

आज दुनिया इंटरनॉट डे के जरिए टिम बेरनर्स को थैंक्‍यू कह रही है। इंटरनॉट डे दरअसल इंटरनेट के डिजाइनर और इसके ऑपरेटर या फिर इंटरनेट के टेक्निकल यूजर के लिए बनाया गया है।

टिम ने 23 अगस्‍त 1991 को नॉन-टेक्निकल फील्ड से आने वाले लोगों को भी अपने इंटरनेट कनेक्‍शन के प्रयोग के लिए मंजूरी दे दी थी।

आज इसकी 25वां बर्थडे है और इसके साथ ही वर्ल्‍ड वाइड वेब यानी डब्‍लूयडब्‍लूयडब्‍लूय अपने 25 वर्ष पूरे कर रहा है। आज टिम को फादर ऑफ इंटरनेट कहा जाता है।

क्‍या था शुरुआती मकसद

बेरनर्स ने वर्ष 1989 में वर्ल्‍ड वाइड वेब का आविष्‍कार किया था और उस समय वह सर्न के साथ काम करते थे। शुरुआत में ली ने इसे दुनियाभर की यूनिवर्सिटीज और इंस्‍टीट्यूट्स में मौजूद साइंटिस्‍ट्स के बीच ऑटोमैटिक इंफॉर्मेशन एक्‍सचेंज के लिए डेवलप किया था।

आज ली इसी वर्ल्‍ड वाइड वेब की सिक्‍योरिटी और इसे बेहरत बनाने के लिए काम कर रहे हैं।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
On this day in 1991 Tim Berners-Lee, a British scientist allowed its access to the general public.
Please Wait while comments are loading...