करेंसी की भारी कमी के चलते सरकार ने नोटबंदी का फैसला लिया वापस

Written By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। वेनेजुएला के राष्ट्रपति निकोलस मदुरो ने देश मे नोटबंदी के फैसले को उस वक्त वापस लेने का फैसला लिया जाब देशभर में इसके खिलाफ आवाज उठने लगी। नोट की कमी के चलते मदुरो ने इस प्रस्ताव को वापस लेने का फैसला लिया।

venezuela

12 दिसंबर को लिया गया था फैसला

वेनेजुएला ने नोटबंदी के फैसले के विफल होने के पीछे विदेशी ताकतों का हाथ बताया है। राष्ट्रपति ने 12 दिसंबर से वेनेजुएला की सबसे बड़ी नोट 100 बोलिवर को प्रतिबंधित कर दिया था, इसकी जगह 500, 2000 और 20,000 बोलिवर को जारी किया था।

जहाज से भेजे जा रहे थे नोट

सरकार के फैसले के बाद बैंकों के बाहर लोगों की काफी लंबी लाइनें लगनी शुरु हो गई थी, यहां भी नए नोटों को बैंकों तक पहुंचाने के लिए तीन हवाई जहाज की मदद ली गई थी, लेकिन बावजूद इसके नोटों की कमी कम होने का नाम नहीं ले रही थी और लोग बेकाबू होने लगे थे।

इसे भी पढ़े- CBI ने RBI के दो अधिकारियों को बेंगलुरू में किया अरेस्ट,बड़ी मात्रा में करेंसी एक्सचेंज करने का आरोप

कई जगहें दुकानें लुटी

कई जगहों पर सैकड़ों दुकानों को लूटने की खबरें सामने आई, लोगों ने सरकार के खिलाफ जमकर प्रदर्शन करना शुरु कर दिया था। ऐसी स्थिति में सरकार ने नोटबंदी के फैसले को वापस लेने का फैसला लिया।

क्यों लिया था फैसला

नोबंदी के फैसले के पीछे वेनेजुएला की सरकार ने पड़ोसी देश कोलंबिया में माफियाओं द्वारा बड़ी नोट की जमाखोरी को खत्म करने के लिए यह फैसला लिया था।

इसे भी पढ़े- उर्जा मंत्री पीयूष गोयल ने की नोटबंदी से मिले फायदे की बात, कहा सबके साथ शेयर करेंगे

सरकार ने दिया था सिर्फ 72 घंटे का समय

यहां गौर करने वाली बात यह है कि लोगों को पुराने नोट बदलने के लिए सिर्फ 72 घंटे का समय दिया गया था, जिसकी वजह से लोगों को तमाम चीजें खरीदने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था। इस फैसले से लोगों की क्रिसमस की तैयारियों पर भी काफी असर पड़ने लगा था। जिसके बाद रविवार को सरकार ने नोटबंदी का फैसला वापस लेने का ऐलान किया।

सरकार को हटाने के लिए शुरु मुहिम

आपको बता दें कि वेनेजुएला में करेंसी की हालत काफी कमजोर थी, यहां 100 बोलिवर की कीमत सिर्फ 2 से तीन सेंट थी। सरकार के विरोधियों का कहना है कि सरकार की गलत नीतियों की वजह से देश की अर्थव्यवस्था चौपट हो गई। वेनेजुएला में 2018 में चुनाव होने हैं, ऐसे में विपक्ष इस कोशिश में है कि यहां जनमत कराकर सरकार को समय से पहले ही बाहर कर दिया जाए।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Huge crisis of currency forced the Venezuela president to roll back demonetisation. People hit the street against the decision of government.
Please Wait while comments are loading...