डूडल बना कर कुछ इस तरह टाइम जोन के जनक को गूगल ने किया याद

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। गूगल ने शनिवार यानी 7 जनवरी को अपने डूडल के जरिए सर सैंडफोर्ड फ्लेमिंग को उनके 190वें जन्मदिन पर याद किया। बता दें कि फ्लेमिंग को दुनिया में टाइम जोन का जनक माना जाता है। जानकारी के मुताबिक साल 1876 में आयरलैंड में सफर के दौरान सैंडफोर्ड की ट्रेन छूट गई। इसके बाद सैंडफोर्ड के दिमाग में स्टैंडर्ड टाइम जोन का विचार आया। तीन साल बाद, फरवरी 1879 को रॉयल कनैडियन इंस्टिट्यूट में यह विचार रखा।

डूडल बना कर कुछ इस तरह टाइम जोन के जनक को गूगल ने किया याद

1884 में यह विचार 25 मुल्कों ने अपनाया और कुछ साल बाद पूरे विश्व ने पेशे से इंजीनियर सैंडफोर्ड की भूमिका कनाडा रेलवे के विस्तार में भी थी। सैंडफोर्ड ने 1851 कनाडा का पहला और सबसे ज्यादा प्रसिद्ध डाक टिकट भी बनाया था। डाक टिकट पर सैंडफोर्ड ने एक 'बीवर' की तस्वीर लगाई थी। हालांकि वहां की सरकार चाहती थी कि टिकट पर ब्रिटेन की महारानी विक्टोरिया की तस्वीर हो। सैंडफोर्ड को महारानी विक्टोरिया ने 1897 में नाइटहुड से सम्मानित किया था।

SANDFORD

गूगल की ओर से बनाए गए डूडल में ट्रेन और अलग-अलग देशों के टाइम जोन की तस्वीर लगाई है।इससे पहले देश की पहली महिला शिक्षिका, समाज सुधारक और मराठी कवयित्री सावित्रीबाई फुले का जन्मदिन पर डूडल के जरिए सावित्रीबाई फुले की तस्वीर बनाकर उनके 186वें जन्मदिन पर श्रद्धांजलि दी थी। डूडल ने जो तस्वीर बनाई थी उसमें सावित्रीबाई को अपने आंचल में महिलाओं को समेटते दिखाया गया था। ये भी पढ़ें: सावित्रीबाई फुले: कभी बरसते थे पत्थर, गूगल ने किया सलाम

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
डूडल बना कर कुछ इस तरह टाइम जोन के जनक को गूगल ने किया याद
Please Wait while comments are loading...