ट्रंप का नया ऐलान अमेरिका जाकर काम करने वाले भारतीयों के लिए आफत

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

वाशिंगटन। नए अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने अपने एक ऐलान से अमेरिका में काम कर रहे हजारों भारतीय कामगारों पर आफत आ सकती है। राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने ऐलान किया है कि एच1बी वीजा वाले विदेशी नागरिकों को अमेरिकी कंपनियों में तरजीह नहीं दी जाएगी। ये वीजा धारक अमेरिकियों की जगह कंपनियों में नहीं ले पाएंगे।

donald-trump-h1b-visa

पढ़ें-रूस की वजह से ट्रंप बने राष्‍ट्रपति, ओबामा ने दिए जांच के आदेश

ट्रंप लड़ेंगे हक की लड़ाई

भारत के कई नागरिकों के पास यही वीजा है और अमेरिका में काम कर रहे हैं। गुरुवार को आइओवा में अपने हजारों समर्थकों के सामने ट्रंप ने कहा कि वह हर आखिरी अमेरिकी की जिंदगी की सुरक्षा के लिए लड़ाई लड़ेंगे।

यहां पर उन्‍होंने डिज्‍नी वर्ल्‍ड जैसी अमेरिकी कंपनियों का जिक्र किया। ट्रंप ने याद दिलाया कि कैंपेन के समय उन्‍होंने कई ऐसे अमेरिकी कामगारों के साथ समय बिताया था जिन्‍हें उनकी जॉब से हटा दिया गया था।

पढ़ें-ट्रंप के लिए चीन को बनाने च‍ाहिए और ज्‍यादा परमाणु हथियार!

विदेशी कामगार बेइज्‍जती की तरह

इन कामगारों को जबर्दस्‍ती उन विदेशी लोगों को ट्रेनिंग देनी पड़ती थी जो आगे चलकर उनकी जगह कंपनी में लेने वाले थे। ट्रंप ने कहा अब वह ऐसा और नहीं होने देंगे।

ट्रंप को इस बात पर हैरानी थी कि अमेरिकी कामगारों को तब तक उनकी सैलरी नहीं मिलती जब तक वह उन लोगों को ट्रेनिंग नहीं दे देते जो उनकी जगह लेंगे। ट्रंप के मुताबिक यह काफी बेइज्‍जती वाली बात है।

पढ़ें-पांच वजहें क्‍यों राष्‍ट्रपति ट्रंप बने टाइम पर्सन ऑफ द ईयर

दो अमेरिकियों ने दायर किया केस

अमेरिका की डिज्‍नी वर्ल्‍ड और दो और आउटसोर्सिंग कंपनियों को पिछले दिनों एक केस का सामना करना पड़ा है।इन कंपनियों के पूर्व टेक्‍नोलॉजी स्‍टाफ की ओर से केस दर्ज कराया गया है। 

कंपनियों को आरोप था कि उन्‍होंने अमेरिकी कामगारों को सस्‍ते विदेशी कामगारों की वजह से हटाने की साजिश रची थी।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
President elect Donald Trump has said that he would not allow any H!B visa holder to replace US Workers.
Please Wait while comments are loading...