कभी चूहे भी पकड़ते थे पुतिन, जन्मदिन पर जानिए कुछ दिलचस्प बातें

By:
Subscribe to Oneindia Hindi

मॉस्‍को। रूस के राष्‍ट्रपति ब्‍लादीमिर पुतिन सात अक्‍टूबर को अपना 64वां जन्‍मदिन मना रहे हैं। पुतिन को वर्ष 2015 का सबसे ताकतवर शख्‍स घोषित किया जा चुका है। वर्ष 2014 में जब यूक्रेन संकट की शुरुआत हुई तो दुनिया अचानक से पुतिन में दिलचस्‍पी दिखाने लगी।

पढ़ें-भारत के दोस्‍त रूस पर हैं पाक की नजरें

भारत और पाकिस्‍तान के बीच बढ़ते तनाव के बीच ही आज पुतिन काफी खास हो गए हैं क्‍योंकि पाक अब रूस के साथ करीबी बनाने में लगा हुआ है।

वहीं यूनाइटेड नेशंस का स्‍थायी सदस्‍य रूस, भारत की स्‍थायी सदस्‍यता के लिए और एनएसजी के लिए कितनी वकालत करता है, यह भी आगे आने वाले समय में पता लग जाएगा। 

पढ़ेंं-जो दुनिया के सामने नहीं माना वो अपनी फौज से कहा नवाज ने

जब पुतिन की इतनी बात चली है तो उनके जन्‍मदिन पर जानिए उनसे जुड़ी कुछ ऐसी बातें जिन्‍हें आपने कम सुना होगा।

उदाहरण के लिए क्‍या आप जानते हैं कि राष्‍ट्रपति पुतिन के अंग्रेजी बोलने में घबराहट होती है और राष्‍ट्रपति बनने से पहले वह अमेरिका में रूस के जासूस के तौर पर रह चुके हैं।

16 वर्ष तक अमेरिका की जासूसी

16 वर्ष तक की अमेरिका की जासूसी जी हां यह सच है। रूस के राष्‍ट्रपति और प्रधानमंत्री बनने से पहले पुतिन रूस की इंटेलीजेंस एजेंसी केजीबी के एजेंटे थे। यहां पर रहकी उन्‍होंने वर्ष 1975 से 1991 तक पूर्वी जर्मनी की जासूसी की। पुतिन की जिम्‍मेदारी थी ऐसे विदेशियों की नियुक्ति करना जिन्‍हें अमेरिका की जासूसी के लिए वहां भेजा जा सके। 

चूहे पकड़ने वाले राष्‍ट्रपति पुतिन

राष्‍ट्रपति पुतिन का जीवन बेहद गरीबी में बिता था। एक गरीब सोवियत परिवार में जन्‍म लेने वाले पुतिन का परिवार सेंट पीट्सबर्ग के एक अपार्टमेंट के ब्‍लॉक में तीन और परिवारों के साथ रहता था। आत्‍मकथा में पुतिन ने बताया है कि वह बचे हुए समय में चूहों को पड़ककर बाहर छोड़ने का काम करते थे।

ब्‍लैक बेल्‍ट वाले राष्‍ट्रपति

राष्‍ट्रपति पुतिन ने एक चौंकाने वाले खुलासा किया था। उन्‍होंने बताया था कि जब वह 18 वर्ष के थे तो उन्‍होंने जूडो सीखना शुरू किया था। इसकी वजह थी कि उनकी उम्र से कम लड़के तो उम्र की परिपक्‍वता को हासिल कर चुके थे लेकिन पुतिन उनसे पीछे रह गए थे। पुतिन रूस मार्शल आर्ट सांबो के मास्‍टर हैं।

भ्रष्‍टाचार का खात्‍मा

वर्ष 2014 में आई ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल की रिपोर्ट की मानें तो रूस दुनिया का वह देश है जहां पर भ्रष्‍टाचार सबसे कम है। पुतिन आज भी मानते हैं कि वह अपने कार्यकाल में कभी भ्रष्‍ट अधिकारियों को अपने पद पर नहीं रहने देंगे।

शेर को किया बेजान

पुतिन ने वर्ष 2008 में एक टेलीविजन क्रू की जान उस समय बचाई जब साइबेरियन टाइगर उस पर हमला करने आ रहा था। वैसे आपको बता दें कि पुतिन के पास एक नहीं दो नहीं बल्‍कि चार साइबेरियन टाइगर्स हैं।

दो बेटियों के पिता

पुतिन की दो बेटियां हैं- मारिया और टेकटरीना पुतिन। दोनों का जन्‍म पूर्वी जर्मनी में 1980 के मध्‍य में हुआ था। लेकिन पुतिन के बारे में यह बात शायद कम लोग ही जानते हैं क्‍योंकि पुतिन ने आज तक अपनी व्‍यक्तिगत जिंदगी को सबसे छिपाकर रखा।

मार्केल को कुत्‍तों से डराया

जनवरी 2007 में जब जर्मन चासंलर एंजेला मार्केल और पुतिन की मुलाकात हुई तो पुतिन अपनी ब्‍लैक लैब्राडोर कोनी को लेकर वहां पहुंचे थे। पुतिन को यह बात मालूम थी कि मार्केल को कुत्‍तों से डर लगता है। 

जैज सिंगिंग के शौकीन बीटल्‍स के मुरीद

दिसंबर 2010 में पुतिन जब एक कार्यक्रम में थे तो उन्‍होंने कुछ एक्‍टर्स के साथ जैज गाने पर परफॉर्म किया था। इसके बाद एक इंटरव्‍यू में पुतिन ने खुद इस बात को कुबूल किया कि उन्‍हें जैज म्‍यूजिक काफी पंसद है। जैज के शौकीन पुतिन बीटल्‍स के बहुत बड़े फैन हैं।

फाइटर पायलट पुतिन को बाइक का क्रेज

अगस्‍त 2010 में वेस्‍टर्न रूस के जंगलों में भयानक आग लग गई थी। इस दौरान पुतिन ने फाइटर पायलट बने। को-पायलट बन पुतिन ने उस समय जंगलों की आग बुझाने में एक बड़ा योगदान दिया। फाइटर पायलट उड़ाने वाले पुतिन जुलाई 2010 में राष्‍ट्रपति पुतिन हार्ले-डेविडसन बाइकर्स फेस्टिवल में भी शामिल हुए थे। बाइक्‍स के लिए पुतिन का शौक इस कदर है कि फिनलैंड में प्रतिबंधित लोगों की लिस्‍ट में उनका नाम शामिल हो गया है। सिर्फ इतना ही नहीं राष्‍ट्रपति ने इसी वर्ष 240 किमी प्रति घंटे की रफ्तार पर एक फॉर्मूला वन कार को भी टेस्‍ट किया था। 

पुतिन के नाम पर वोदका

वर्ष 2003 में मॉस्‍को डिस्‍टलरी क्रिस्‍टल कंपनी ने राष्‍ट्रपति पुतिन के नाम और उनकी लोकप्रियता को भुनाने के लिए उनके नाम पर वोदका लांच की। देखते-ही देखते इस वोदका की लोकप्रियता भी बढ़ने लगी और वर्ष 2004 में यह ब्रांड उस वर्ष का सुपरब्रांड बन गया। वर्ष 2006 में साथ ही वोदका कैटेगरी में इसे नेशनल अवॉर्ड भी मिला।

पुतिन के नाम पर और कौन-कौन से ब्रांड

राष्‍ट्रपति के नाम पर लांच वोदका के लांच होने के बाद रूस में राष्‍ट्रपति के नाम पर कैन्‍ड फूड गोरबुशा पुतिना कैवियर ब्रांड लांच किया गया। वोदका की ही तरह आज यह भी रूस का एक सुपरहिट कैन्‍ड फूड ब्रांड बन गया है। ब्रांड पुतिन का अंदाजा आप इस बात से ही लगा सकते हैं कि रूस में कोई भी यंगस्‍टर ऐसा नहीं है जिसके पास पुतिन के फोटो और उनके नाम वाली टीशर्ट न हो। करीब सात वर्ष पहले जब यह टी-शर्ट लांच हुई थी तो कुछ लोगों ने इसकी आलोचना की थी लेकिन फिर राष्‍ट्रपति पुतिन ने ही इसकी मंजूरी दे दी। 

पुतिन न होते तो जोक्‍स न होते

राष्‍ट्रपति के नाम पर हैं कई जोक्‍स रूस में अक्‍सर लोग यह बात करते हैं कि अगर राष्‍ट्रपति पुतिन न होते तो रूस में कोई भी चुटकुला बनता ही नहीं। आज राष्‍ट्रपति के नाम पर कई जोक्‍स तो हैं ही साथ ही साथ उनके नाम पर कॉमिक्‍स का एक ब्रांड भी बच्‍चों में काफी हिट है।

नाना पकाते थे पूर्व राष्‍ट्रपति के लिए खाना

पूर्व राष्‍ट्रपति के घर नाना थे कुक पुतिन की मां के पिता यानी उनके नानाजी रूस के पूर्व प्रधानमंत्री व्‍लादीमिर लेनिन के यहां पर कुक का काम करते थे। हालांकि पुतिन जब राष्‍ट्रपति बने तो उन्‍होंने लेनिन की सरकार को रूस के लिए टाइम बम जैसी स्थिति के लिए जिम्‍मेदार ठहरा दिया।

अंग्रेजी से घबराते हैं पुतिन

जर्मन बोलने में माहिर लेकिन अंग्रेजी से होती घबराहट पुतिन को जर्मन भाषा में महारत हासिल है लेकिन वह मानते हैं कि अंग्रेजी में बात करने को लेकर उन्‍हें बहुत ही घबराहट होती है। उन्‍होंने कई बार इंटरव्‍यू में कहा है कि वह सबके सामने अंग्रेजी में बात नहीं कर सकते हैं।

सेम सेक्‍स मैरिज के खिलाफ

सेम सेक्‍स मैरिज के खिलाफ अमेरिकी राष्‍ट्रपति ओबामा से अलग पुतिन मानते हैं सेम सेक्‍स मैरिज शैतान की पूजा करने जैसा है। आज तक विशेषज्ञ कहते हैं कि उन्‍हें पुतिन के यह ख्‍याल कभी समझ नहीं आते हैं।

 

 

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Russian President Vladimir Putin to celebrate his 64th birthday on 7th October. Before becoming a President Putin was a spy to US.
Please Wait while comments are loading...