चीनी मीडिया ने नेपाल को दी चेतावनी, कहा- जब भारत से छुटकारा पाना था तो हमारे पास आए

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। चीन को नेपाल और भारत के रिश्तों में सुधार रास नहीं आ रहा है। बीते दिनों नेपाल के प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहल प्रचंड भारत दौरे पर आए थे, जो चीन को पसंद नहीं आ रहा है।

चीनी मीडिया ने यहां तक कह दिया है कि जब नेपाल को भारत से 'छुटकारा' पाना था तो हमारे वो पास आए थे।

एलओसी पर पाक ने तोड़ा युद्धविराम, भारत ने भी जवाब में बरसाईं गोलियां

nepal,china,india

चीन की सरकारी मीडिया ने नेपाल को चेतावनी दी है कि उसकी आजादी और प्रतिष्ठा को 'मौलिक चोट' पहुंचेगी यदि चीन से ज्यादा मान भारत को दिया जाएगा।

उरी अटैक : एक शहीद के मां-बाप, भाई और दोस्त की मार्मिक दास्तां, जिसे पढ़कर रो पड़ेंगे आप

चीन सरकार के ग्लोबल टाइम्स में प्रकाशित लेख में कहा गया है कि भारत, नेपाल के साथ चीन के संबंधों में टाँग अड़ा रहा है।

ठगा हुआ महसूस करेगा चीन

बिना टीपू सेना कहीं ढह ना जाए यूपी में सपा का किला

ग्लोबल टाइम्स में लिखा गया है कि स्पष्ट रूप से चीन ठगा हुआ महसूस करेगा। जब नेपाल को खुद से भारत का दबाव हटाना था तो वे चीन के करीब आए और कुछ महत्वपूर्ण करार किए जो नेपाल को भारत पर निर्भरता से छुटकारा दिलाने में सहायक होते।

आतंक के पनाहगार पाकिस्तान को मिले करारा जवाब, अंतराष्ट्रीय स्तर पर हो बेनकाब - बीडी मिश्रा

लिखा गया है कि लेकिन एक बार भारत का रुख नेपाल के प्रति थोड़ा सा सही हुआ तो नेपाली राजनेताओं ने नेपाल और चीन के बीच किए गए वादों और संबंधों को पीछे ढकेल दिया।

लिखा गया है कि चीन ने कभी भी भारत-नेपाल के संबंधों को अशांत नहीं किया, लेकिन भारत हर बार एक समय में चीन नेपाल के संबंधों में दखल देता है। इसलिए किसी भी नजरिए से देखा जाए तो चीन, नेपाल का विश्वास प्राप्त करने के लिए योग्य है।

सीसीटीवी: दिल्ली के बुराडी में सरेआम लड़की की चाकू से गोदकर हत्या, आरोपी गिरफ्तार

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Chinese media warned nepal on ties with india.
Please Wait while comments are loading...