चीन ने फाइटर जेट FC-31 के साथ दी अमेरिका और ब्रिटेन को चुनौती

दुनिया के मोस्‍ट एडवांस्‍ड फाइटर जेट को चैलेंज करने के लिए चीन ने जे-31 फाइटर जेट का किया सोमवार को परीक्षण। एफसी-31 जियरफाल्‍कन दिया है इस फाइटर जेट को नाम।

By:
Subscribe to Oneindia Hindi

बीजिंग। चीन ने सोमवार को अपने पांचवीं पीढ़ी के फाइटर जेट का सफलतापूर्वक टेस्‍ट कर डाला। सोमवार को चीन की मीडिया की ओर से इसकी जानकारी दी गई। चीन ने मोस्‍ट एडवांस्‍ड जेट की कैटेगरी में पश्चिमी देशों के दबदबे को कम करने के मकसद से यह टेस्‍ट किया है।

चीन-ने-पांचवीं-पीढ़ी-के-फाइटर-जेट-FC-31-का-किया-सफल-टेस्‍ट

काफी बेहतर है चीन का यह फाइटर जेट

चीन ने यह टेस्‍ट उस समय किया है जब चीन की सेनाएं वेस्‍टर्न पैसिफिक में अपनी इकलौते एयरक्राफ्ट कैरियर लियाओनिंग को तैनात कर दिया है। चीन ने अपनी सैन्‍य ताकत का प्रदर्शन करते हुए पहली बार इस हिस्‍से में मिलिट्री ड्रिल की अगुवाई की है। जिस फाइटर जेट का चीन ने परीक्षण किया है वह जे-31 का नया वर्जन है और उसे एफसी-31 जियरफाल्‍कन नाम दिया गया है। चाइना डेली के मुताबिक शुक्रवार को पहली बार इसकी झलक देखने को मिली। कहा जा रहा है चीन का यह पांचवीं पीढ़ी का ट्विन इंजन वाला फाइटर जेट अमेरिका के सबसे एडवांस्‍ड एफ-35 का जवाब है। एफ-35 को तकनीकी तौर पर दुनिया का सबसे आधुनिक फाइटर जेट माना जाता है। चाइना डेली ने एविएशन एक्‍सपर्ट वू पईक्सिन के हवाले से लिखा है कि सी-31 स्‍टेल्‍थ कैपेसिटी में पहले से बेहतर है, इसके इलेक्‍ट्रॉनिक उपकरण भी बेहतरीन क्‍वालिटी के हैं और यह ज्‍यादा भार उठा सकता है। आपको बता दें स्‍टेल्‍थ कैपेसिटी किसी भी जेट की वह क्षमता है जो रडार से बच निकलने में उसकी काबिलियत को साबित करती है। इस फाइटर जेट का पहला वर्जन अक्‍टूबर 2012 में दुनिया के सामने आया था।

तेजी से आगे बढ़ रहा चीन का हथियार उद्योग

इस फाइटर जेट को शेनयांग एयरक्राफ्ट कॉर्प ने तैयार किया है जो कि एविएशन इंडस्‍ट्री कॉर्प ऑफ चाइना (एविक्‍स) का हिस्‍सा है। इस फाइटर जेट की की कीमत करीब 70 मिलियन डॉलर है। कीमत के लिहाज से इसने सबसे महंगे चौथी पीढ़ी के ब्रिटिश फाइटर जेट यूरोफाइटर टायफून को पीछे छोड़ दिया है। एविक्‍स का कहना है कि एफसी-31 पांचवीं पीढ़ी के फाइटर जेट में कुछ देशों का एकाधिकार खत्‍म करेगा। कंपनी का इशारा अमेरिका और ब्रिटेन की ओर था। चीन आक्रामक तरीके से अपने घरेलू हथियार उद्योग को विकसित कर रहा है। चीन ड्रोन से लेकर एंटी-एयरक्राफ्ट सिस्‍टम और देश में बने जेट इंजन तक तैयार करने लगा है। चीन पर पहले रूस के फाइटर जेट्स की डिजाइन को चुराने के आरोप भी लगे हैं और कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि एफसी-31 की डिजाइन भी अमेरिकी जेट एफ-35 से काफी मिलती-जुलती है। एफसी-31 चीन का दूसरा पांचवीं पीढ़ी का फाइटर जेट होगा। इससे पहले नवंबर में झुहाई एयर शो में चीन जे-20 फाइटर जेट को पहली बार सार्वजनिक तौर पर दुनिया के सामने लाया था।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
China has tested the latest version of its fifth generation of J-31 stealth fighter jet.
Please Wait while comments are loading...