चीन ने दी धमकी भारत बने ओबीओआर का हिस्‍सा नहीं तो झेले दबाव

चीन की मीडिया ने दी भारत को धमकी कहा वन रोड वन बेल्‍ट प्रोजेक्‍ट के लिए अगर भारत रखेगा व्‍यवहारिक रवैया तो होगा फायदेमंद। अगर ऐसा नहीं किया तो फिर झेलना होगा चीन का बढ़ता दबाव।

By:
Subscribe to Oneindia Hindi

बीजिंग। चीन की मीडिया ने भारत को धमकी दी है और कहा है कि अगर भारत ने चीन की ओर से शुरू किए गए प्रोजेक्‍ट 'वन बेल्‍ट वन रोड' (ओबीओआर) के लिए व्‍यावहारिक रवैया नहीं अपनाया तो उसे चीन का दबाव झेलना पड़ेगा। चीन के सरकारी मीडिया ग्‍लोबल टाइम्‍स ने अपने एक आर्टिकल में भारत को यह धमकी दी है।

चीन ने दी धमकी भारत बने ओबीओआर का हिस्‍सा नहीं तो झेले दबाव

चीनी राष्‍ट्रपति का फेवरिट प्रोजेक्‍ट

ग्लोबल टाइम्‍स जिसे चीन की सत्‍तारूढ़ कम्‍यूनिस्‍ट पार्टी ऑपरेट करती है, उसके एक आर्टिकल में भारत को नए सिरे से चुनौती दी गई है। ग्‍लोबल टाइम्‍स के एक आर्टिकल में लिखा है कि चीन के इस प्रोजेक्ट को भारत की चिंता के बावजूद
बाकी देशों से समर्थन मिल रहा है और इसलिए अब भारत को इस तरफ अपना रवैया बदलना होगा। साथ ही इस प्रोजेक्‍ट को लेकर सावधानी भरा कदम उठाना होगा। आर्टिकल के मुताबिक‍ अगर भारत दूसरे देशों को इस प्रोजेक्‍ट में शामिल होने से रोकने के लिए राजी नहीं कर पा रहा है तो बेहतर होगा कि वह भी इस प्रोजेक्‍ट का हिस्‍सा बन जाए। ओबीओआर, चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग का पसंदीदा प्रोजेक्ट है। इस प्रोजेक्‍ट के तहत चीन पड़ोसी देशों सहित यूरोप को भी सड़क के रास्‍ते जोड़ना चाहता है। प्रोजेक्ट के तैयार होने के बाद चीन दुनिया के कई बंदरगाहों से सीधे तौर पर जुड़ जाएगा।

कश्‍मीर का भी हुआ जिक्र

अपने आर्टिकल में ग्‍लोबल टाइम्‍स ने कश्‍मीर का भी जिक्र किया है। इसने लिखा है कि कश्‍मीर पर भारत और पाकिस्‍तान के बीच जो विवाद है, उसकी वजह से भारत आदतन हर बड़े विदेशी निवेश के विरोध को लेकर काफी सतर्क हो गया है। लेकिन उसके लिए यह काफी जरूरी है कि वह साधारण कमर्शियल निवेश और उस निवेश को अलग करके देखे जो उसकी संप्रभुता को खतरा पैदा कर सकते हैं। ओबीओआर, चीन-पाकिस्‍तान इकोनॉमिक कॉरिडोर का हिस्‍सा है और भारत इस बात को लेकर विरोध जताता रहा है कि सीपीईसी, पीओके से होकर गुजरता है। भारत का मानना है कि यह प्रोजेक्‍ट उसकी सुरक्षा को लेकर खतरा पैदा कर सकता है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Chinese media has said India should be more pragmatic attitude toward One Belt One Road initiative.
Please Wait while comments are loading...