चीन ने कहा- बलूचिस्तान पर पीएम मोदी का भाषण चिंता का विषय

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। बलूचिस्तान के मुद्दे पर कई दिनों से शांत चीन ने अब अपनी बात रख ही दी है।

china flag

चीनी थिंकटैंक्स की ओर से कहा गया है कि भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से लाल किले की प्राचीर से बलूचिस्तान में मानवाधिकारों के खराब हालात पर चिंता जाहिर करना 'चिंता का विषय' है।

चीन को देना पड़ेगा दखल

यह भी कहा गया है कि यदि भारत की ओर से किए गए किसी भी षड़यंत्र के चलते चीन -पाक इकॉनमिक कॉरिडोर के प्रोजेक्ट को बाधित करने की कोशिश की गई तो फिर चीन को मामले में अपना दखल देना पड़ेगा और चीन-पाक एक साथ कदम उठाएंगे।

नवाज करेंगे कश्‍मीर का जिक्र, तो मोदी उठाएंगे बलूचिस्‍तान का मुद्दा

चाइना इंस्टीट्यूट ऑफ कंटम्पररी इंटरनेशनल रिलेशन्स के इंस्टीट्यूट ऑफ साउथ एंड साउथ ईस्ट एशियन एंड ओसिनियन स्टडीज (सीआईसीआईआर) के डायरेक्टर हू शीशेंग ने इस मामले पर कहा है कि स्वतंत्रता दिवस पर दिए गए भाषण में भारतीय पीएम नरेंद्र मोदी की ओर से बलूचिस्तान की चर्चा, चीन और उसके विद्वानों के लिए 'मौजूदा चिंता' है।

लंदन में गूंजे हक है हमारा आजादी और मोदी फॉर बलूचिस्तान के नारे

साथ ही यह भी कहा गया है कि भारत के अमेरिका से बढ़ते संबंध और दक्षिण चीन सागर पर भारतीय रुख में बदलाव चीन के लिए खतरा है।

भारत कर सकता है कि सरकार विरोधी तत्वों का इस्तेमाल

हू ने कहा है कि चीन को इस बात भय है कि भारत बलूचिस्तान में सरकार विरोधी तत्वों का इस्तेमाल कर सकता है जहां सफलता की महत्वाकांक्षी परियोजना सीपीईसी का निर्माण किया जा रहा है।

कहा गया कि यदि ऐसे किन्हीं कारणों के चलते सीपीईसी को कोई नुकसान हुआ तो चीन को इस मामले में दखल देना पड़ेगा।'

चीन की ओर इस बात का आरोप भी लगाया गया कि बलूचिस्तान, गिलगिट और पाक अधिकृत कश्मीर में भारत अलगाववादियों का समर्थन कर रहा है।

बलोच नेता ने कहा- बलूचिस्तान में पाक कर रहा सुनामी गति से मानवाधिकार उल्लंघन

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
China said if india creates problem in balochistan then china will intervene
Please Wait while comments are loading...