फिर से मसूद अजहर को आतंकी घोषित करने वाले प्रस्‍ताव में चीन अड़ंगा डालने को तैयार

By:
Subscribe to Oneindia Hindi

बीजिंग। चीन ने मंगलवार को एक बार फिर इशारा किया है कि वह पठानकोट आतंकी हमले के मास्‍टरमाइंड और जैश-ए-मोहम्‍मद के सरगना मौलाना मसूद अजहर पर आने वाले बैन का विरोध करेगा। चीन का कहना है कि इस खास मुद्दे पर यूनाइटेड नेशंस (यूएन) की उस कमेटी में रजामंदी नहीं बन रही है जो आतंकवाद से जुड़े मसले देखती है।

फिर से मसूद अजहर को आतंकी घोषित करने वाले प्रस्‍ताव में चीन अड़ंगा डालने को तैयार

अगले माह होगा बैन का रिव्‍यू

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता गेंग शुहांग ने की ओर से यह प्रतिक्रिया उस सवाल के जवाब में आई है जब अगले माह यूएन की 1267 कमेटी को अजहर के बैन का रिव्‍यू करना है। शुहांग ने मीडिया ब्रीफिंग में कहा, 'हम कई बार अपनी स्थिति के बारे में चर्चा कर चुके हैं। हमारा मानना है कि लक्ष्य और पेशेवर तथा न्याय संबंधी सिद्धांतों को बरकरार रखा जाए।' गेंग से पूछा गया था कि लगातार अजहर पर बैन की भारत की ओर से हो रही मांग पर अब चीन टेक्निकल होल्‍ड के बाद क्‍या करेगा। चीन ने पठानकोट आतंकी हमले में मसूद अजहर की भूमिका के लिए उसे आतंकवादी घोषित करने के अमेरिका और बाकी देशों के यूएन में प्रयासों पर तकनीकी रोक लगा रखी है। आपको बता दें कि टेक्निकल होल्‍ड' तभी हटाया जाता है जब सिक्‍योरिटी काउंसिल के सदस्‍यों को और ज्‍यादा जानकारी चाहिए होती है। लेकिन कभी-कभी यह स्‍थायी तौर पर ब्‍लॉकिंग या प्रस्‍तावित ब्‍लैकलिस्टिंग में तब्‍दील हो जाते हैं।

अमेरिका, फ्रांस और यूके ने भी की बैन की मांग

इसी वर्ष फरवरी में अमेरिका, फ्रांस और यूनाइटेड किंगडम ने एक बड़े कदम के तहत यूनाइटेड नेशंस (यूएन) में जैश-ए-मोहम्‍मद कमांडर मौलाना मसूद अजहर को बैन के लिए प्रस्‍ताव दिया। हर बार की तरह चीन ने इसमें भी अड़ंगा डाल दिया।चीन ने फिर से एक बार इस प्रस्‍ताव पर छह माह का टेक्निकल होल्‍ड लगा दिया। अमेरिका ने यह अहम कदम तब उठाया जब चीन ने दिसंबर 2016 में भारत के प्रस्‍ताव को खारिज कर दिया था। इस प्रस्‍ताव में मसूद अजहर को ग्‍लोबल टेरिरस्‍ट घोषित करने की मांग की गई थी। अमेरिका के प्रस्‍ताव को फ्रांस और यूनाइटेड किंगडम का भी समर्थन मिला था। अमेरिका ने यूएन की प्रतिबंध समिति 1267 के तहत यह प्रस्‍ताव भेजा। मसूद अजहर पाकिस्‍तान के बहावलपुर का रहने वाला है। वह उन तीन आतंकवादियों में से एक हैं जिन्‍हें वर्ष 1999 में एयर इंडिया की हाइजैक्‍ड फ्लाइट आईसी-814 को छुड़ाने के एवज में रिहा किया गया था। उस समय अजहर हरकत-उल-मुजाहिदीन का सदस्‍य।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
China again ready to block India’s move on JeM chief Masood Azhar in UN.
Please Wait while comments are loading...