भूटान ने भारत से निभाई दोस्ती, पाकिस्तान को दिया बड़ा झटका

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। भारत से अपनी दोस्ती निभाते हुए भूटान ने पाकिस्तान में होने वाले सार्क (SAARC) सम्मेलन में न शामिल होने का फैसला लिया है। भारत की ओर से सम्मेलन का बहिष्कार किए जाने के बाद भूटान ने कहा कि मौजूदा हालात में सार्क सम्मेलन आयोजित किया जाना उपयुक्त नहीं है।

Bhutan PM with Modi

पढ़ें: इश्क में आकर चार स्कूली लड़कियों ने घर में खोद डाली 'सौतन' की कब्र

माना जा रहा है कि भूटान ने उरी हमले के बाद भारत की ओर से पाकिस्तान के कड़े विरोध और आतंकवाद के मसले पर अंतरराष्ट्रीय स्तर में घेरने की कोशिश का समर्थन किया है। भूटान ने सार्क के मौजूदा अध्यक्ष नेपाल से कहा, 'बिगड़े माहौल और अशांति के बारे में भारत, बांग्लादेश और अफगानिस्तान की चिंताएं वाजिब हैं। भारत के राष्ट्रीय हित जहां भी होगा हम समर्थन करेंगे।'

पढ़ें: अश्विन ने तीसरे टेस्ट में कैसे छुड़ाए न्यूजीलैंड के 'छक्के'?

भूटान ने निभाई थी बड़ी भूमिका
बता दें कि भूटान ने 2003 में उल्फा (ULFA), कामतापुर लिबरेशन ऑर्गेनाइजेशन (KLO) और नेशनल डेमोक्रेटिक फ्रंट ऑफ बोडोलैंड (NDFB) के शिविरों को नष्ट करने में अहम भूमिका निभाई थी। ये सभी शिविर सुरक्षा के लिहाज से भारत के लिए बड़ा खतरा थे।

पढ़ें: यूपी चुनाव से पहले बीएसपी को बड़ा झटका, दो बड़े नेताओं ने थामा कांग्रेस का हाथ

पांच देशों ने किया था इनकार
इस साल नवंबर में सार्क सम्मेलन पाकिस्तान के इस्लामाबाद में प्रस्तावित था, लेकिन उरी आर्मी बेस पर हुए आतंकी हमले के बाद भारत में इसमें न शामिल होने का फैसला लिया। भारत के फैसले का समर्थन करते हुए बांग्लादेश, भूटान, अफगानिस्तान और श्रीलंका ने भी सार्क में हिस्सा न लेने का ऐलान किया था। पांच देशों के फैसले के बाद सम्मेलन को स्थगित करना पड़ा।

पढ़ें: भूटान ने भारत से निभाई दोस्ती, पाकिस्तान को दिया बड़ा झटका

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
bhutan quit saarc summit in pakistan for india's national interest
Please Wait while comments are loading...