अगर अमेरिका नौकरी करने जाना है तो जरूर पढ़ें डोनाल्‍ड ट्रंंप के H1-B वीजा से जुड़े ये 8 कथन

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्‍ली। अमेरिका के 45वें राष्‍ट्रपति के रूप में जनता ने डोनाल्‍ड ट्रंप को चुना और हिलेरी क्लिंटन को हार का मुंंह देखना पड़ा। यहां जानिए वो सभी जरूरी बातें जो डोनाल्‍ड ट्रंप ने एच-1बी वीजा से जुड़ी अपने इलेक्‍शन कैंपेन के दौरान कहीं...

पढ़ें: डोनाल्‍ड ट्रंप की हिलेरी पर जीत से भारत को होंगे ये फायदे और नुकसान

डोनाल्‍ड ट्रंप बने अमेरिका के 45वें प्रेसीडेंट

डोनाल्‍ड ट्रंप बने अमेरिका के 45वें प्रेसीडेंट

एक लंबे इलेक्‍शन कैंपेन के बाद आज आखिरकार यह ऐतिहासिक फैसला हो ही गया कि अमेरिका का अगला राष्‍ट्रपति आख्‍ािर कौन होगा।

डोनाल्‍ड ट्रंप 276 इलोक्‍टोरल वोटों के साथ अप्रत्‍याशित विजेता रहे। जीत के लिए 27 राज्‍यों के 270 से ज्‍यादा इलेक्‍टोरल वोट चाहिए थे।

एच-1बी वीसा धारकों के न्‍यूनतम भत्‍ते में इजाफा

एच-1बी वीसा धारकों के न्‍यूनतम भत्‍ते में इजाफा

इलेक्‍शन कैंप‍ेनिंग के दौरान डोनाल्‍ड ट्रंप ने कहा था कि अगर वह राष्‍ट्रपति चुने जाते हैं तो वह एच-1बी वीसा धारकों के न्‍यूनतम भत्‍ते में इजाफा करेंगे। इससे भारतीय आईटी प्रोफेशनल्‍स के लिए अमेरिका में नौकरी की संभावनाएं कम होने का खतरा है।

पढ़ें: डोनाल्‍ड ट्रंप से हिलेरी क्लिंटन की क्‍यों हुई हार, जानिए यहां असली वजहें

इन कंपनियों पर लगेगा ज्‍यादा टैक्‍स

इन कंपनियों पर लगेगा ज्‍यादा टैक्‍स

डोनाल्‍ड ट्रंप ने कहा था कि वह उन अमेरिकी कंप‍नियों को पर 35 फीसदी टैक्‍स लगाएंगे जो बाहर से एंप्‍लॉयज आउटसोर्स करते हैं।

आईबीएम पर ट्रंप ने लगाया था यह आरोप

आईबीएम पर ट्रंप ने लगाया था यह आरोप

डोनाल्‍ड ट्रंप ने इसी हफ्ते अमेरिकी टेक्‍नोलॉजी की दिग्‍गज कंपनी आईबीएम पर 500 कामगारों को मिनेपोलिस की एक रैली में भेजने का और उन्‍हें भारत या अन्‍य देशों में नौकरी करने भेजने का आरोप लगाया।

अमेरिकी लोगों के हितों की रक्षा करेंगे

अमेरिकी लोगों के हितों की रक्षा करेंगे

अमेरिकी लोगों की नौकरियों को बचाने का वादा ट्रंंप सपोर्टर्स को बहुत पसंद आया। उन्‍होंने कहा कि कंपनियो एच-1बी वीजा वाले कामगारों को कम दाम पर नौकरी दे रही हैं। वह अमेरिकी लोगों के हितों की रक्षा करेंगे।

मार्क जुकरबर्ग को लिया था निशाने पर

मार्क जुकरबर्ग को लिया था निशाने पर

आपको बता दें कि बीते साल ट्रंप ने फेसबुक सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने एच-1बी वीजा को ट्रिपल करने की मांग को लेकर हमला बोला था।

पढ़ें: 500-1000 नोट बंदी पर इस क्रिकेटर ने किया कमेंट तो पीएम मोदी ने कुछ ऐसे की तारीफ

विदेश से आने वालों का स्‍वागत

विदेश से आने वालों का स्‍वागत

डोनाल्‍ड ट्रंप ने सीएनबीसी चैनल को दिए इंटरव्‍यू में कहा था कि वह अमेरिका में वैध रूप से विदेश से आने वालों का स्‍वागत करते हैं।वॉल स्‍ट्रीट जर्नल में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार, ट्रंप ने कहा था कि एच-1बी वीजा अमेरिका और विदेशों से टैैलंटेड लोगों को लाने में मददगार होंगे।

उन्‍होंने कहा कि, 'लोग विदेशों से आकर यहां के बेहतरीन कॉलेज में पढ़ते हैं और फिर कोर्स पूरा होने के बाद देश छोड़ देते हैं। वे यहां रुकना चाहते हैं लेकिन स्थि‍तियां नहीं है जो उन्‍हें रोक सकें। हम वास्‍तव में होशियार लोग चाहते हैं।' हालांकि, बाद में उन्‍होंने कहा कि वह अपने रुख में नरमी लाएंगे।

पहले अमेरिकियों के ओपन जॉब ऑफर करनी है

पहले अमेरिकियों के ओपन जॉब ऑफर करनी है

प्रवास नीति पर ट्रंप का नजरिया है कि नौकरियों, भत्‍तों और नागरिकों की सुरक्षा को ध्‍यान में रखा जाए। उनका मानना है कि सबसे पहले अमेरिकियों के ओपन जॉब ऑफर करनी चाहिए।

 

 

 

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
9 points Donald Trump said about H-1B visa and outsourcing.
Please Wait while comments are loading...