समय पर नहीं पहुंची एंबुलेंस, सड़क किनारे डिलीवरी को मजबूर हुई महिला, बच्चे की मौत

Subscribe to Oneindia Hindi

जालंधर। देश में सरकारी एंबुलेंस का हाल बेहाल है। एक बार फिर एंबुलेंस न मिलने की वजह से एक महिला को सड़क किनारे डिलीवरी पर मजबूर होना पड़ा। महिला के परिवार ने लगातार 108 एंबुलेंस सेवा पर फोन किया लेकिन कोई जवाब नहीं मिला।

ambulance

घटना पंजाब के जालंधर की है। महिला के पति कन्नू ने बताया कि गर्भवती पत्नी को अचानक दर्द शुरू हो गया। उसने लगातार 108 एंबुलेंस सेवा पर फोन किया लेकिन कॉल रिसीव नहीं हुई। अंत में वह दो अन्य रिश्तेदार महिलाओं के साथ अपनी पत्नी को रिक्शे में बैठाकर सदर अस्पताल ले जाने लगा।

पढ़ें: आखिर क्यों अमिताभ बच्चन ने रिलायंस जियो को कहा शुक्रिया?

पैदा होने के कुछ ही मिनटों में मर गया बच्चा
पत्नी को लेकर वह कंपनी बाग चौक पहुंचा था कि दर्द बढ़ गया। पत्नी के बढ़ते दर्द को देखकर उसने रिक्शा रोका और उसे सड़क किनारे बैठा दिया, जहां उसने बच्चे को जन्म दिया। हालांकि बच्चा प्री-मैच्योर था और कुछ ही मिनटों में उसकी मौत हो गई। दंपति मूल रूप से यूपी के बहराइच जिले का रहने वाला है।

पढ़ें: 'अच्छे दिन' को लेकर अब नितिन गडकरी ने दिया बड़ा बयान

डेढ़ घंटे बाद पहुंची एंबुलेंस
मौके से गुजर रहे लोगों ने 108 एंबुलेंस सेवा पर फोन किया, जिसके करीब डेढ़ घंटे बाद वहां एंबुलेंस पहुंची और महिला को अस्पताल पहुंचाया। फिलहाल महिला की हालत नाजुक बनी हुई है। हालांकि सिविल सर्जन ने विभाग की ओर से किसी तरह की लापरवाही बरते जाने से इनकार किया है।

पढ़ें: बकरियां बेचकर टॉयलेट बनवाने वाली महिला को PM करेंगे सम्मानित

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
A woman was forced to deliver a premature baby, who died minutes after birth, on the roadside here when she was being taken to a hospital in a rickshaw after her family members alleged that their calls to 108 Ambulance service went unreceived.
Please Wait while comments are loading...