बॉर्डर से 40 किमी दूर नगरोटा तक तीन घंटे में पहुंच जाते हैं आतंकी

नॉर्दन कमांड के हेडक्‍वार्टर उधपमुर से सिर्फ कुछ दूरी पर मौजूद नगरोटा से वैष्‍णो देवी से सिर्फ 30 किमी दूर। नगरोटा के पास ही बसे हैं कश्‍मीरी पंडित भी।

By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नगरोटा। मंगलवार को सुबह पांच बजे जब जम्‍मू के नगरोटा के आर्मी बेस पर आतंकी हमला हुआ तो यह छोटा सा इलाका भी खबरों में आ गया। तीन आतंकियों ने तड़के हमला बोल दिया जिसमें सात सैनिक शहीद हो गए। जम्‍मू से सिर्फ 14 किलोमीटर दूर नगरोटा सेना और देश की सुरक्षा के लिए रणनीतिक तौर पर काफी अहमियत रखता है।

importance-of-nagrota-for-indian-army.jpg

पढ़ें-विदाई से पहले नगरोटा आतंकी हमले की साजिश कर गए जनरल शरीफ!

बॉर्डर सिर्फ 40 किमी दूर

नगरोटा से इंडियन आर्मी की उधमपुर स्थित नार्दन कमांड का हेडक्‍वार्टर थोड़ी ही दूर पर स्थित है।

सिर्फ 54 किलोमीटर दूर उधमपुर स्थित आर्मी हेडक्‍वार्टर से पाकिस्‍तान से सटी एलओसी के अलावा चीन से सटी एलएसी यानी लाइन ऑफ एक्‍चुअल कंट्रोल पर भी नजर रखी जाती है।

यहां से बॉर्डर सिर्फ 40 किमी दूर है और सिर्फ तीन घंटे का सफर तय करके आतंकी यहां तक पहुंच सकते हैं।

नगरोटा आतंकी हमले में शामिल आतंकियों के बारे में माना जा रहा है कि उन्‍हें यहां पर स्थित आर्मी यूनिट के बारे में सारी जानकारी थीं।

पढ़ें-सर्जिकल स्ट्राइक के बाद दो महीने में शहीद हुए तीन गुना सैनिक

वैष्‍णों देवी भी पास में

जिस जगह पर हमला हुआ है वहां से 16 कॉर्प्‍स का हेडक्‍वार्टर और कोल कंडोली मंदिर बस थोड़ी ही दूरी पर स्थित हैं। नगरोटा की जनसंख्‍या करीब 25,000 है और यह जगह वैष्‍णों देवी श्राइन से भी सिर्फ थोड़ी दूरी पर स्थित है।

यहां से कटरा सिर्फ 30 किलोमीटर स्थित है। इसके अलावा कश्‍मीरी पंडितों के लिए जाग्‍ती में बनाई गई टाउनसिर्फ भी कुछ ही दूरी पर है। इसके अलावा एक प्रतिष्ठित सैनिक स्‍कूल भी यहां पर मौजूद है। सिर्फ

पढ़ें-सर्जिकल स्‍ट्राइक के बाद बीएसएफ ने मारे 15 पाक रेंजर्स

हाइवे से यूनिट तक पहुंचे आतंकी

नगरोटा जम्‍मू जिले की एक तहसील है और यह नेशनल कांफ्रेस के नेता देवेंदर सिंह राणा का विधानसभा क्षेत्र है। राना के बड़े भाई जीतेंद्र सिंह पीएमओ में मंत्री हैं और वह उधमपुर संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्‍व करते हैं।

पढ़ें-#NagrotaTerrorAttack ये हैं नगरोटा के सात बहादुर शहीद

सूत्रों का कहना है कि नगरोटा आतंकी हमले के आतंकी कश्‍मीर से सफर करते हुए यहां पर पहुंचे। ऐसे में 300 किमी लंबे जम्‍मू-श्रीनगर नेशनल हाइवे पर होने वाली गश्‍त पर सवालिया निशान लगने लगे हैं।

इस हाइवे पर सुरक्षा व्‍यवस्‍था काफी सख्‍त रहती है और कई जगह पर चेक पोस्‍ट और नाके बने हुए हैं। आर्मी यूनिट में जो आतंकी दाखिल हुए वह नेशनल हाइवे को पार करके यहां पर आए थे।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Nagrota is located just 54 kilometer away from Northern Command headquarters in Udhampur and nearest border from here is more than 40 kilometers.
Please Wait while comments are loading...