अपनी ही कामवाली को मंत्री समझ बैठे और '3 ईडियट्स' बन गए मोदी के ये मिनिस्‍टर्स

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नोएडा। केंद्र सरकार के इतने बड़े और अहम ओहदे पर बैठे वित्त मंत्री अरुण जेटली, ऊर्जा मंत्री पियूष गोयल और पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान एक छोटी से गलतफहमी के चलते 3 इडियट्स बन गए। अरे...अरे... चौंकिए मत क्‍यों‍कि ऐसा हम नहीं कह रहे हैं बल्‍कि इन मंत्रियों ने खुद ही खुद को इस टाइटल से नवाजा है। दरअसल हुआ यह कि अरुण जेटली दिल्‍ली स्थित विज्ञान भवन में एक कॉन्‍फ्रेंस को संबोधित कर रहे थे। 

अपनी ही कामवाली को मंत्री समझ बैठे और '3 ईडियट्स' बन गए मोदी के ये मिनिस्‍टर्स

उनके साथ पियूष गोयल और धर्मेंद्र प्रधान भी थे। इसी बीच संस्‍कृति मंत्री मंत्री महेश शर्मा की बेटी का फोन उनसके पास आया और घबराए हुए आवाज में उन्‍होंने जेटली से कहा कि निर्मला कैलाश अस्‍पताल में भर्ती हैं, उनकी हालत नाजुक है। आपको बता दें कि कैलाश अस्‍पताल महेश शर्मा का ही है। यह सुनते ही जेटली के जेहन में वाणिज्य और उद्योग मंत्री निर्मला सितारमन का नाम आ गया और वो फौरन धर्मेंद्र प्रधान और गोयल के साथ उनका हाल जानने कैलाश अस्‍पताल के लिए रवाना हो गए।

अभी वो नोएडा बॉर्डर पर पहुंचे ही थे कि जेटली की पत्‍नी ने उन्‍हें फोन किया और बताया कि कोई उनसे मिलने आया है। इसपर जेटली ने पत्‍नी से कहा कि 'अभी हम निर्मला सितारमन से मिलने अस्पताल जा रहे हैं।' यह सुनते ही जेटली की पत्‍नी समझ गईं कि उन्‍हें गलतफहमी हुई है क्‍योंकि अस्‍पताल में उनकी कामवाली भर्ती है जिसका नाम भी निर्मला है, न कि निर्मला सितारमन।

जब इस गलतफहमी के बारे में निर्मला सितारमन को पता चला तो उन्होंने पीयूष गोयल और धर्मेंद्र प्रधान से पूछा कि वे उनसे वापस क्यों नहीं मिले। इसका जवाब देते हुए दोनों मंत्रियों ने कहा कि उस समय हम तीनों 3 इडियट्स की तरह लग रहे थे।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
When Arun Jaitley, Piyush Goyal and Dharmendra Pradhan became 3 idiots after confusion of one news.
Please Wait while comments are loading...