अब तक क्यों नहीं जमा कराए पैसे? पढ़िए लोगों ने क्या दिए जवाब

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। मंगलवार को भारतीय रिजर्व बैंक ने 5000 रुपए से अधिक के पुराने नोट जमा करने को लेकर एक नया नियम बनाया था। इस नियम के तहत आपको 30 दिसंबर तक सिर्फ एक बार ही 5000 रुपए से अधिक के पुराने नोट जमा करने की छूट थी। हालांकि, इस बीच 5000 रुपए से कम आप जितनी बार चाहें जमा करा सकते थे।

demonetisation

बार-बार यूटर्न पर बोली कांग्रेस- रिवर्स बैंक ऑफ इंडिया बन गया है RBI

नियम के तहत सरकार ने कहा कि अगर कोई 5000 रुपए से अधिक के पुराने नोट जमा कराता है तो उसे ये नोट दो अधिकारियों की मौजूदगी में जमा करने होंगे और उनसे यह भी पूछा जाएगा कि अब तक उन्होंने ये नोट जमा क्यों नहीं किए?

सरकार द्वारा ये नियम लागू किए जाने के अगले दिन ही यानी बुधवार को नियम में बदलाव किया गया और अब नए नियम के अनुसार 5000 से अधिक की पुराने नोटों में रकम कितनी भी बार जमा कराई जा सकती है और आपसे कोई पूछताछ नहीं होगी।

जानिए, कितने में छपता है 500 और 2000 रुपए का एक नोट

सवालों के मिले कैसे-कैसे जवाब?

ग्राहकों से जब ये पूछा गया कि उन्होंने अब तक ये पैसे जमा क्यों नहीं करवाए और ये पैसे आपको पास कहां से आए? तो इस पर लोगों ने अपने गुस्से का इजहार करते हुए जवाब दिया। ये जवाब लोगों से एक फॉर्म भरवाकर मांगे गए और ग्राहक के हस्ताक्षर भी करवाए गए। आइए देखते हैं कैसे-कैसे जवाब मिले।

1- मैंने ये पैसे अभी तक जमा नहीं करवाए क्योंकि पैसे जमा कराने की आखिरी तारीख 30 दिसंबर थी। ये पैसे मेरे पास एटीएम से आए थे।

2- मैंने ये पैसे अब तक जमा नहीं किए थे, क्योंकि मुझे अपने प्रधानमंत्री और वित्त मंत्री की बातों पर पूरा भरोसा था कि इसकी आखरी तारीख 30 दिसंबर 2016 है, लेकिन अब वे लोग अपनी बात से पलट गए। राम कुमार नाम के इस शख्स ने अपने जवाब की तस्वीर भी सोशल मीडिया पर शेयर की है। राम कुमार ने बताया कि उनके इस जवाब को देखने के बाद कैशियर ने उन्हें मैनेजर से मिलने को कहा और मैनेजर ने कहा कि इसमें कुछ ऐसा लिखो कि तुम्हें समय नहीं मिल पाया। हालांकि, राम कुमार ने इससे इनकार करते हुए कहा कि मैं झूठ नहीं बोलूंगा और अपना स्पष्टीकरण बदलकर सरकार को निर्दोष नहीं बताऊंगा। आखिरकार उनका फॉर्म स्वीकर कर लिया गया।

form

नोटबंदी पर फिर पलटा RBI, 5,000 रुपए पर आया यह नया नियम

3- कुछ ऐसा ही जवाब दिया स्वराज अभियान के नेता योगेन्द्र यादव ने। उन्होंने लिखा- मैंने 8 नवंबर से अभी तक अपने अकाउंट में कोई कैश जमा नहीं कराया है। मुझे इसका कोई कारण समझ नहीं आता कि मैं देर से पैसे जमा करने आने का जवाब दूं। आमतौर पर मैं कतार खत्म होने का इंतजार करना पसंद करता हूं। पीएम मोदी और वित्त मंत्री ने भरोसा दिलाया था कि मुझे अभी से बैंकों में भागने की जरूरत नहीं है। 30 दिसंबर तक का समय है और मैं भीड़ कम होने पर बैंक में पैसे जमा कर सकता हूं। मैंने तो सिर्फ उन लोगों पर भरोसा किया।

form1

4- इससे पहले कि सरकार फिर से कोई नया कानून बना दे मुझे हर हालत में अपना पैसे जमा कराना है।

5- बैंक में पैसे जमा कराने पहुंची एक महिला से जब ये सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा- मैं अपने बेटे की शादी का इंतजार कर रही थी। मुझे पता था कि लोग शादी में पुराने नोट दे जाएंगे। अब सारे नोट इकट्ठा कर के ले आई हूं।

6- एक मजदूर ने जवाब दिया- सरकार से पूछो, कभी कुछ कहते हैं कभी कुछ कहते हैं। सुबह से लाइन में लगे हैं। काम पर भी जाना है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
what answers given by public on question of depositing old notes so late
Please Wait while comments are loading...