8 तारीख के बाद जमा बेहिसाब रकम से आधी जब्त करेगी सरकार

सरकार को इस प्रस्ताव को प्रभाव में लाने के लिए कानून में संशोधन करना पड़ेगा।

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। 8 नवंबर को नोट बंदी घोषित होने के बाद से लगभग हर दूसरे दिन नए नियम सामने आ रहे हैं। अब कालेधन के जमाखोरों और ज्‍यादा सरकार सख्‍ती दिखा सकती है। आयकर विभाग के अध्‍ािकारिक सूत्रों के मुताबिक अनुसार 30 दिसंबर तक जमा किए गए बेहिसाब धन की घोषणा यदि कर अधिकारियों के सामने की जाती है तो 50 प्रतिशत कर देना होगा साथ ही इस धन को चार साल तक के लिए नहीं निकाला जा सकता। यदि इसकी घोषणा अधिकारियों के समक्ष नहीं की जाएगी और इसके बारे में आयकर व‍िभाग के अधिकारियों ने पता किया तो बेहिसाब जमा किए गए धन पर 90 फीसदी पेनाल्‍टी टैक्‍स तो लगेगा ही साथ ही उस धन को निकालने पर लंबे समय तक की रोक लगेगी।

पीएम मोदी के कालेधन वाले बयान पर राहुल का पलटवार

note

तब हुआ विचार

सूत्रों के अनुसार इस प्रस्ताव पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली मंत्रिमंडल की बैठक में इस प्रस्ताव पर विचार किया गया। साथ ही यह भी कहा जा रहा है कि इस प्रस्‍ताव को पीएम मोदी की मंजूरी मिल गई है। बताया जा रहा है कि आयकर कानून में अध्‍यादेश के जरिए संशोधन किया जा सकता है।

गौरतलब है कि 8 नवंबर को राष्ट्र के नाम संबोधन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1,000 रुपए के बंदी की घोषणा की थी। उन्होंने कहा था कि इससे आतंकवाद और कालेधन पर लगाम लगेगी। आपको बताते चलें कि कि अभी तक जनधन खातों में 64252 करोड रुपए से ज्‍यादा जमा हो चुके हैं।

नोटबंदी का असर: बैंक-ATM की कतार में खड़े लोगों को मुफ्त खिला रहे हैं पिज्जा-सैंडविच

आयकर कानून में बदलाव के लिए अध्‍यादेश पेश करेगी सरकार

आयकर व‍िभाग के अधिकारियों के मुताबिक आयकर कानून में बदलाव के लिए सरकार अध्‍यादेश का सहारा लेगी। क्‍योंकि संसद के जरिए आयकर कानून में बदलाव करना एक लंबा रास्‍ता होगा। वहीं अध्‍यादेश के जरिए इस आयकर कानून में बदलाव किया जा सकता है।

पुराने नोटों से बांड खरीदने की योजना पर सरकार कर रही व‍िचार

500-1000 के पुराने नोटों को खपाने के लिए केंद्र सरकार बांड खरीदने की योजना को ला सकती है। इस योजना के तहत लोगों को 500-1000 रुपए के पुराने नोटों से बांड खरीदने की सुव‍िधा मिल सकेगी।

नोट बंदी का असर: 25.58 करोड़ जन धन खातों में 64,252.15 करोड़ रुपए हुए जमा

क्‍यों कर ही है सरकार ऐसा

आपको बताते चलें कि सरकार ने अधिक पेनाल्‍टी का प्रस्‍ताव इसलिए रखा है क्‍योंकि लोग अपना कालाधन छुपाने के लिए जनधन खातों और दूसरे रास्‍तों का प्रयोग कर रहे हैं। इसलिए बेहिसाब जमा धन पर 90 फीसदी तक टैक्‍स पेनाल्‍टी लगाने का प्रस्‍ताव है। सरकार का मानना है कि ईमानदार लोगों को कोई परेशानी न हो और बेईमान लोगों को पूरी तरह से दंड मिले। आपको बताते चलें कि सरकार ने 30 सितंबर को समाप्‍त हुई आयकर योजना आईडीएस-2016 में काले धन के खुलासे पर कर, जुर्माने और अधिभार के रूप में 45 फीसदी की राशि बदलने का प्रावधान था।

 

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Unaccounted deposits disclosed to taxman face 50% tax, lock-in for 4 years
Please Wait while comments are loading...