असम: स्वतंत्रता दिवस से पहले आतंकी गतिविधियां तेज, उग्रवादियों के हमले में 2 की मौत

Subscribe to Oneindia Hindi

गुवाहाटी। स्वतंत्रता दिवस के पास आते ही उग्रवादियों ने असम में आतंकी गतिविधियां बढ़ा दी हैं। तिनसुकिया जिले के डूमडूमा इलाके में उग्रवादियों ने दो घरों पर अंधाधुंध गोलियां बरसाकर दो लोगों को मार डाला।

इस गोलीबारी में सात लोग घायल हो गए। घटना शुक्रवार के शाम की है।

assam militancy

पुलिस अधिकारियों को संदेह है कि सभी हमलावर, उग्रवादी संगठन उल्फा के थे। शाम को पार्बतीपुर गांव में लोग कीर्तन के लिए जमा हुए थे, जिन पर छह से सात की संख्या में आए हुए उग्रवादियों ने गोलियां बरसाईं।

READ ALSO: 30 साल से फैला असम में ऐसा विद्रोह जिसमें मारे गए 8000 लोग

सीएम सर्वानंद सोनोवाल ने की घटना की निंदा

मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने इस घटना की भर्त्सना की है और अधिकारियों को हमलावरों को पकड़ने के निर्देश दिए हैं। सीएम ने कहा, 'डूमडूमा इलाके में शुक्रवार के शाम की घटना को कायरों ने अंजाम दिया है। जो भी इस हमले में शामिल है, उसे बख्शा नहीं जाएगा।'

घायलों को भेजा गया अस्पताल

जिस क्षेत्र में घटना हुई है वहां सुरक्षा बलों की गश्त बढ़ा दी गई है। घटना में मृतकों की पहचान किशोरी शाह और राजेश शाह के रूप में की गई है। घायलों को डूमडूमा इलाके के हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। गंभीर रूप से घायलों को डिब्रूगढ़ के असम मेडिकल कॉलेज भेजा गया है।

एक महीने में हमले की यह दूसरी घटना

6 अगस्त को उग्रवादियों ने कोकराझार में अंधाधुंध गोलियां बरसाकर 13 लोगों की हत्या कर दी थी। पुलिस को संदेह है कि इस हमले को नेशनल डेमोक्रेटिक फ्रंट ऑफ बोडोलैंड से अलग हुए एक धड़े ने अंजाम दिया।

READ ALSO: असम के कोकराझार में आतंकी हमला, 13 की मौत, कई घायल

हिंदी बोलने वालों पर लगातार हो रहे हमले

असम में हिंदीभाषी लोग लगातार उग्रवादियों के निशाने पर रहे हैं। ऊपरी असम में खासतौर पर तिनसुकिया और डिब्रूगढ़ जिले में हिंदीभाषियों पर उल्फा के उग्रवादी हमला करते रहे हैं। पुलिस का कहना है कि आतंक का सहारा लेने की वजह से उग्रवादी संगठनों के समर्थकों में कमी आई है।

कर्बी में कांस्टेबल की हत्या

असम के कर्बी आंगलोंग इलाके के पुलिस थाने पर उग्रवादियों ने गोलियां बरसाईं जिसमें एक कॉन्सेटबल की मौत हो गई।

READ ALSO: उल्फा उग्रवादी अब खेतों में चलाएंगे हथियार

स्वतंत्रता दिवस से पहले आंतकी गतिविधियां तेज

राज्य में स्वतंत्रता दिवस से पहले असम में प्रतिबंधित उल्फा ने अपनी गतिविधियां तेज कर दी है। पिछले गुरुवार को उल्फा के सदस्यों ने तिनसुकिया के फिलोबारी में आईडी ब्लास्ट किया था।

पुलिस का कहना है कि जिले में तनाव पैदा करने के लिए अरुणाचल प्रदेश से उग्रवादी इस क्षेत्र में दाखिल होते हैं। उल्फा ने असम के लोगों से स्वतंत्रता दिवस का बहिष्कार करने को कहा है।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Friday evening witnessed the attack of militants in Tinsukia district of Assam. Two died in this incident.
Please Wait while comments are loading...