टीटीई ने नहीं दी 15 रू. की रसीद, यात्रा के ट्वीट पर बीच रास्ते में हुआ सस्पेंड

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। ट्रेनें स्टेशन पर पहुंचने में भले लेट हो जाए, लेकिन रेलवे सोशल मीडिया पर रिप्लाई करने में लेट नहीं करता। इस बात के सबूत कई बार मिल चुके हैं। रेलवे ट्विट्स को लेकर बहुत सजग है। इसका एक उदाहरण बाड़मेर से कालका एक्सप्रेस में देखने को मिला, जब एक यात्री की ट्विट पर एक्शन देते हुए रेलवे ने टीटीई को बीच रास्ते में ही नौकरी से निलंबित कर दिया।

train

क्या है पूरा मामला

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक बाड़मेर से कालका जा रही ट्रेन में सफर के दौरान टीटीई ने आरक्षित कोच में बिना आरक्षण के सफर कर रहे एक यात्री से 15 रुपये जुर्माने के तौर पर लिए। यात्री ने उस की रसीद मांगी को टीटीई ने देने से इंकार कर दिया। यात्री ने टीटीई की शिकायत को ट्वीट कर दिया।

रेलवे की ट्विट के प्रति सजगता देखिए, यात्री की शिकायत पर उसे बीच रास्ते में ही सस्पेंड कर दिया गया और पूरे मामले की जांच विजिलेंस को सौंपी दी गई। ट्रेन के मेड़ता पंहुचते ही विजिलेंस टीम ने टीटीई श्याम लाल को ट्रेन से उतार कर पूछताछ शुरू की तो उसके पास करीब एक हजार रुपये अधिक मिले। डीआरएम ने तुरंत कार्रवाई करते हुए टीटीई को मेड़ता में निलंबन का आदेश जारी कर दिया। रेलवे की इस कार्रवाई से जहां दूसरे को भ्रष्टाचार के खिलाफ संदेश जा रहा है तो वहीं लोगों में एक अच्छी सीख।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Acting on a complaint received on Twitter, North Western Railway has suspended a Travelling Ticket Examiner (TTE) for not giving passengers a slip against allotment of seats in the Barmer-Kalka express.
Please Wait while comments are loading...