Pics: ट्रेड यूनियनों की महा-हड़ताल, लोग हैरान-परेशान

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। आज ट्रेड यूनियनों की देशव्यापी हड़ताल ने देश के लोगों को परेशानी में डाल दिया है। इस बंद में 15 करोड़ कर्मचारी शामिल हुए हैं। केंद्रीय श्रमिक संगठन की सरकार से मांग है कि वो न्यूनतम मजदूरी बढ़ाये, हालांकि हड़ताल को रोकने के लिए वित्त मंत्री अरुण जेटली इसे 246 से 350 रुपया पर डे करने का ऐलान किया था लेकिन कर्मचारियों की मांग है कि इसे इसे कम से कम 18,000 की जाये।

भारत बंद: कैसे तय होता है न्यूनतम वेतन, जानिए जरूरी बातें

बंद के कारण आम जन-जीवन पर सीधा असर पड़ा है। यातायात में सबसे ज्यादा परेशानी हो रही है। स्कूलों-कॉलेजों को बेवजह बंद करना पड़ा है। ऑफिस जाने में लोगों को खासी दिक्कतों का सामना कर पड़ रहा है।

ट्रेड यूनियनों की देशव्यापी हड़ताल का असर आप नीचे की तस्वीरों में देख सकते है...

बसें नहीं चल रही हैं

बसें नहीं चल रही हैं

हड़ताल के कारण आज रोडवेड बसें चल नहीं रही हैं।

जन-जीवन पर असर

जन-जीवन पर असर

आम जनजीवन बंद के कारण परेशान है।

स्कूल-कॉलेज बंद

स्कूल-कॉलेज बंद

स्कूलों-कॉलेजों को बेवजह बंद करना पड़ा है।

लोगों को खासी दिक्कतों

लोगों को खासी दिक्कतों

ऑफिस जाने में लोगों को खासी दिक्कतों का सामना कर पड़ रहा है।

15 करोड़ कर्मचारी शामिल

15 करोड़ कर्मचारी शामिल

इस बंद में 15 करोड़ कर्मचारी शामिल हुए हैं।

स्‍थानीय संगठन

स्‍थानीय संगठन

कुछ राज्‍यों में स्‍थानीय संगठन भी हड़ताल में शामिल।

12 सूत्रीय मांगें

12 सूत्रीय मांगें

केंद्रीय ट्रेड यूनियनों की 12 सूत्रीय मांगें हैं।

सरकार से वापस लेने की मांग

सरकार से वापस लेने की मांग

मजदूर संगठन रक्षा, रेलवे, बैंकिंग, इंश्योरेंस में एफडीआई को मंजूरी देने का फैसला वापस ले सरकार।

भारतीय रेलवे और केंद्र सरकार के कर्मी

भारतीय रेलवे और केंद्र सरकार के कर्मी

इस हड़ताल में भारतीय रेलवे और केंद्र सरकार के कर्मी शामिल नहीं।

बैंक, सरकारी दफ्तर और फैक्ट्रियां

बैंक, सरकारी दफ्तर और फैक्ट्रियां

इस हड़ताल से जहां बैंक, सरकारी दफ्तर और फैक्ट्रियां बंद है।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
More than a million workers in banking, telecom and other sectors are joining the 'Bharat Bandh' today to press their demand for better pay and in protest against new labour and investment policies. here are the pictures.
Please Wait while comments are loading...