आजाद भारत में आधी रात को कब-कब जगी संसद, पढ़िए दिलचस्प जानकारी

Written By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। देश में सबसे बड़े कर सुधार के लिए केंद्र सरकार ने अपनी कमर कस ली है, इसके लिए सरकार ने बकायदा संसद का विशेष सत्र बुलाया है, जिसमें वस्तु एवं सेवा कर को लॉच किया जाएगा। देश के इतिहास में यह काफी अहम मौका है जब आज संसद का सत्र देर रात 12 बजे तक चलेगा। यह कार्यक्रम रात को 11 बजे शुरु होगा, जिसमें पीएम मोदी और राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी भी होंगे और वह सत्र को संबोधित करेंगे। यह कार्यक्रम संसद के सेंट्रल हॉल में होगा।

parliament

पूरी हो गई है तैयारी

रात ठीक 12 बजे जीएसटी को लागू किया जाएगा, इसके लिए तैयारियां पूरी कर ली गई हैं, संसद को दुल्हन की तरह सजाया गया है। आपको बता दें कि इससे पहले 1977 में आजादी की स्वर्ण जयंती के मौके पर संसद का विशेष सत्र बुलाया गया था, यह कार्यक्रम 15 अगस्त 1947 की मध्यरात्रि को फिर से याद करने के लिए बुलाया गया था। इससे पहले भी तीन बार संसद के विशेष सत्र को रात 12 बजे तक चलाया गया है।

14 अगस्त 1947 को बुलाया गया था पहला सत्र

पहली बार संसद के विशेष सत्र को 14 अगस्त 1947 को बुलाया गया था, जिसमें संसद के संसदीय हॉल में देश को आजादी देने की घोषणा की जानी थी, इस सत्र में तत्कालीन राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद मौजूद थे। इस सत्र में वंदे मातरम गीत को गाया गया था और प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने ऐतिहासिक भाषण दिया था, जिसे आज भी याद किया जाता है। इसके बाद दूसरी बार 14 अगस्त 1972 को आजादी के 25 वर्ष पूरे होने के मौके पर संसद का मध्य रात्रि सत्र बुलाया गया था, उस वक्त देश के राषट्रपति वीवी गिरी थे और प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी थी।

इसे भी पढ़ें- जीएसटी के ल‍िए बन रहे मानसून से आम इंसान पड़ा असमंजस में

कई हस्तियां लेंगी हिस्सा

तीसरी बार 14 अगस्त 1997 को आजादी के 50 वर्ष पूरे होने के मौके पर संसद का मध्य रात्रि सत्र बुलाया गया था, इस दौरान देश के राष्ट्रपति केआर नारायणन थे और प्रधानमंत्री इंद्र कुमार गुजराल थे। ऐसे में आज देर रात संसद के मध्य रात्रि सत्र में पीएम मोदी, राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के अलावा कई बड़े सितारे मौजूद होंगे, जिसमें अमिताभ बच्चन भी शामिल हैं। रतन टाटा, लता मंगेशकर, जैसी हस्तियां भी इस कार्यक्रम में मौजूद होंगी। गौरतलब है कि आज के कार्यक्रम का कांग्रेस ने बहिष्कार करने का फैसला लिया है। इसके अलावा टीएमसी, राजद, सपा और वाम दल ने भी इस कार्यक्रम के बहिष्कार का ऐलान किया है।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
This is the fourth time when Parliament special session called on midnight. Parliament building well decorated for the event.
Please Wait while comments are loading...