क्यों बढ़ रही है IIM और IIT छोड़ने वाले छात्रों की संख्या?

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। भले ही देश के प्रतिष्ठित इंस्टीट्यूट आईआईटी और आईआईएम में जाने का लाखों छात्रों का सपना अधूरा रह जाता हो, लेकिन इन इंस्टीट्यूट से पढ़ाई छोड़ने वाले छात्रों की संख्या भी काफी अधिक है। केन्द्रीय राज्य मानव संसाधन मंत्री डॉक्टर महेन्द्र नाथ पांडे की तरफ से दिखाए गए 2014 से 2016 के बीच के डेटा के हिसाब से देश के 16 आईआईटी से पढ़ाई छोड़ने वाले छात्रों की संख्या 1782 हो गई है।

students

वहीं देश के 13 आईआईएम से बीच सत्र में पढ़ाई छोड़ने वालों संख्या आईआईटी कम है, लेकिन इनकी संख्या भी 104 है। आईआईएम बेंगलुरु से 2015-16 के दौरान चार छात्रों ने पढ़ाई छोड़ दी है, यह संख्या एक साल पहले दो थी। लोकसभा में एक सवाल का जवाब देते हुए महेन्द्र नाथ ने कहा कि सरकार इस समस्या से निपटने के लिए जरूरी कदम उठा रही है।

IIT रूड़की ने कम ग्रेड पाने वाले 18 छात्रों का निष्कासन लिया वापस

जानकारों के अनुसार छात्रों के आईआईटी और आईआईएम छोड़ने के कारण अलग-अलग हैं। आईआईटी बेंगलुरु के डायरेक्टर और आईआईटी धारवाड़ के मेंटर डायरेक्टर प्रोफेसर एस सदागोपान के अनुसार अक्सर ये देखा गया है कि छात्र एक इंस्टीट्यूट को किसी दूसरे इंस्टीट्यूट के लिए छोड़ते हैं।

उन्होंने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा कि हर कोई बेहतर विकल्प की तरफ जाना चाहता है। इन इंस्टीट्यूट की फीस अधिक नहीं होती है, ऐसे में छात्रों के लिए एक इंस्टीट्यूट छोड़कर उससे बेहतर इंस्टीट्यूट में जाना आसान हो जाता है। वे बोले कि अधिकतर छात्र मुंबई और दिल्ली के इंस्टीट्यूट में जाना पसंद करते हैं। यही कारण है कि अन्य शहरों में स्थित आईआईटी को छोड़कर बहुत से छात्रों ने दिल्ली-मुंबई का रुख किया है।

देश की टॉप 10 यूनिवर्सिटीज की लिस्ट, JNU को मिला तीसरा स्थान

उन्होंने कहा कि छात्र अक्सर इंस्टीट्यूट सिर्फ इसलिए छोड़ते हैं क्योंकि उन्हें उनके मन मुताबिक ब्रांच नहीं मिलती। अगर किसी को आईआईटी में आर्किटेक्टचर मिलता है और वहीं दूसरी ओर एनआईटी में कम्प्यूटर साइंस मिलता है, तो छात्र आईआईटी को छोड़कर एनआईटी का रुख करने लगते हैं।

अमेरिका जैसे विदेशों में अगर कोई छात्र इंस्टीट्यूट छोड़ता है तो उसे उस सीट को ब्लॉक करने के लिए पूरी फीस देनी पड़ती है, लेकिन भारत में सुप्रीम कोर्ट का आदेश है कि किसी छात्र के इंस्टीट्यूट छोड़ने की स्थिति में 1000 रुपए से अधिक नहीं लिए जा सकते हैं। ये भी भारत के इन प्रतिष्ठित इंस्टीट्यूट से छात्रों के पढ़ाई छोड़ने का एक बड़ा कारण है।

पोलियो पीडि़त भाई को पीठ पर बैठाकर कराई पढ़ाई, दोनों हुए IIT में सलेक्‍ट

आईआईएस बेंगुलरु के एक छात्र श्रीकांत श्रीधर कहते हैं कि छात्र ऐसे इंस्टीट्यूट को कई बार जरूरत से अधिक प्रेशर के चलते भी छोड़ते हैं। वहीं दूसरी ओर कुछ छात्रों के पढ़ाई छोड़ने के पीछे का कारण पैसा भी होता है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
The number of dropout in IIM and IIT is increasing. Do you know the reason behind this.
Please Wait while comments are loading...