मुंबई के लोखंडवाला में 20 साल से चल रहे सबसे बड़े सेक्स रैकेट का भंडाफोड़

Subscribe to Oneindia Hindi

मुंबई पॉश लोखंडवाला इलाके में मुंबई के सबसे बड़े सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ हुआ है। यह सेक्स रैकेट 20 सालों से चल रहा था और इस धंधे में देशभर से बहला फुसला कर लाई गई कम से कम 500 लड़कियों को झोंका गया।

क्राइम ब्रांच को इस सेक्स रैकेट का पता तब चला जब 14 साल तक धंधे की यातना झेलने के बाद एक पीड़िता किसी तरह वहां से भागने में कामयाब हो गई।

ATM यूज करने वाले पढ़ लें खबर, कोई लगा सकता है चूना

racket

छह महीने पहले भागने में कामयाब हुई पीड़िता

पीड़िता युवती अभी 24 साल की है। 2002 में जब वह 10 साल की थी तब उसे मुंबई लाकर एक गैंग ने जिस्मफरोशी के धंधे में झोंक दिया। छह महीने पहले पीड़िता भागने में कामयाब हुई और सीधे अपने घर आगरा पहुंची। डर के मारे उसने परिजनों को पहले कुछ नहीं बताया।

धीरे-धीरे जब समय बीता तब उसने अपनी जिंदगी की सच्चाई का राज खोला जिसे सुनकर परिवार के लोग सन्न रह गए। परिजनों ने आगरा पुलिस को सूचना दी। उसके बाद आगरा पुलिस ने मुंबई पुलिस को इस सेक्स रैकेट के बारे में बताया और इसका भंडाफोड़ हो गया।

मुंबई क्राइम ब्रांच ने छापेमारी शुरू की

मुंबई पुलिस के बड़े अधिकारी ने क्राइम ब्रांच को पीड़िता और सेक्स रैकेट के बारे में बताया। क्राइम ब्रांच ने पीड़िता के बताए हुए फ्लैट पर छापा मारा और चार आरोपियों को पकड़ लिया।

इनमें से दो आरोपी जीतेंद्र ठाकुर और विमल ठाकुर भाई हैं और इनके अलावे आरोपियों में दो महिला, अंजु ठाकुर और पूनम ठाकुर हैं।

कैसे काम करता था गैंग

गैंग के लोग देशभर के शहरों और गांवों में जाते थे। आगरा, कोलकाता और दिल्ली जैसी जगहों पर वे गरीब घर की 10 साल की लड़कियों पर नजर रखते थे। उसके बाद वे एनजीओ वर्कर बनकर लड़की के परिवार से मिलते थे। परिजनों को वे लड़की को अच्छी जिंदगी और शिक्षा के लिए मुंबई ले जाने का झांसा देते थे।

लड़की को मुंबई लाने में जब गैंग के एजेंट सफल हो जाते थे तो उनको घरों में मेड का काम करने पर मजबूर किया जाता था।

जब लड़की जवान होती थी तो उसकी वर्जिनिटी खत्म करने के लिए बोली लगाई जाती थी। उसके बाद जिस्मफरोशी के धंधे में लड़की को झोंक दिया जाता था।

लड़की को डांस बार में भेजा जाता था। कुछ को देशी या विदेशी खरीदारों के हाथों बेच भी दिया जाता था।

चारों आरोपियों में कौन क्या करता था?

जीतेंद्र और विमल एनजीओ के वर्कर्स बनकर गांवों और शहरों से गरीब परिवार की लड़कियों को झांसा देकर मुंबई लाते थे। उसके बाद अंजू और पूनम के उन लड़कियों को धंधे में झोंकती थी।

मुंबई का सबसे बड़ा सेक्स रैकेट

क्राइम ब्रांच के अधिकारियों का कहना है कि यह मुंबई का अब तक का सबसे बड़ा सेक्स रैकेट है। इस रैकेट का जाल विदेशों में, खासतौर पर दुबई और मध्य पूर्व के देशों में फैला है।

क्राइम ब्रांच के अधिकारियों का कहना है कि आगरा की पीड़िता को इसी तरह से बहला फुसला कर मुंबई लाया गया और उसे ओशिवारा के एक फ्लैट में 8-10 अन्य महिलाओं के साथ रखा गया था।

पुलिस को शक है कि इस तरह के सैकड़ों फ्लैट्स हैं जहां लड़कियों को कैद करके रखा गया है।

पीड़िता से मिली सूचना के आधार पर कुछ और लड़कियों की पहचान पुलिस ने की है। क्राइम ब्रांच का कहना है कि शहर में बार और उन जगहों पर छापे मारे जाएंगे जहां इन नाबालिग लड़कियों को बेचा गया है।

अभी इस रैकेट में कुल कितनी लड़कियां फंसी हैं, उसका भी पता लगाया जा रहा है।

READ ALSO: अगर आपने बनवाया है आधार कार्ड, तो जान लीजिए काम की बात

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
In Lokhandwala of Mumbai, a sex racket is busted by crime branch which was operated from twenty years.
Please Wait while comments are loading...