ठाणे कॉल सेंटर स्‍कैम: रैकेट के लोग बेवसाइट्स पर ढूंढते थे अपना शिकार

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

मुंबई। लाखों डॉलर के फर्जी कॉल सेंटर रैकेट के संबंध में पुलिस ने कई सनसनीखेज खुलासे किए हैं। रैकेट के सरगना सागर ठक्‍कर उर्फ शैगी से पूछताछ के बाद पुलिस ने बताया है कि यह गिरोह लोगों के बारे में जानकारी रखने वाली साइट्स के माध्‍यम से लोगों का पूरा डिटेल लेते थे।

जानिए बर्ड फ्लू के बारे में: लक्षण और बचाव के तरीके 

Thane call centre scam: People info sites were used to trap victims

इन साइट्स से ही रैकेट के लोग इस बात की जानकारी ले लेते थे कि जिस व्‍यक्ति को वो टारगेट कर रहे हैं वो अपनी कमाई का कितना हिस्‍सा गैरकानूनी तरीके से दे सकता है। अमेरिकी टैक्स डिफॉल्टर सिटिजन्स की डिटेल्स हासिल करने के बाद वो टैक्स ऑफिसर बनकर उन्हें फोन पर धमकाते थे और ठगी करते थे।

जानिए कैसे करते थे ऑपरेट

एक साथ कई नंबरों पर लगातार इंटरनेट के माध्‍यम से कॉल किया जाता था। उसके बाद पीडि़तों को इस कॉल पर धमकी दी जाती थी। पुलिस के मुताबिक उन कई नंबरों से कुछ लोग दोबारा उन नंबरों पर कॉल बैक करते थे। जैसे ही कॉल सेंटर में कॉल आती थी उस विशेष वेबसाइट के माध्‍यम से कॉल करने वाले का नाम, पता और कई जानकारियां उन्‍हें मिल जाती थीं। जैसे ही उन्‍हें लगता था कि सामने वाला व्‍यक्ति ज्‍यादा मालदार है तो कॉल सेंटर के एजेंट उनसे और लंबी बात करने लगते थे और उन्‍हें पैसे देने के लिए धमकाते थे।

जान बचाने के लिए गर्लफ्रेंड्स और पत्‍नियों की सलवार-कमीज पहन भाग रहे हैं ISIS के आतंकी 

रोजाना 1.5 करोड़ रुपए की होती थी कमाई

कॉल सेंटर्स के इम्प्लॉइज अमेरिकी लहजे में इंग्लिश बोलकर लोगों को फंसाते थे। ये कॉल सेंटर्स इसी तरीके से रोजाना करीब एक से डेढ़ करोड़ रुपए की कमाई कर रहे थे। इनकी सालाना कमाई करीब 300 करोड़ रुपए थी। पुलिस ने बताया कि कॉल सेंटर्स की आड़ में ये रैकेट एक साल से ज्यादा समय से एक्टिव था।

6500 अमेरिकियों से 239 करोड़ रुपए ठगे

बताया जा रहा है कि इन कॉल सेंटर्स ने करीब 6500 अमेरिकियों से 239 करोड़ रुपए ठगे हैं। गिरफ्तारी से बचने के लिए अमेरिकी 500 से 60,000 डॉलर (करीब 33 हजार से 39.92 लाख रुपए) तक देने को तैयार हो जाते थे। पुलिस के मुताबिक, कॉल सेंटर का जो इम्प्लॉई अमेरिकी लोगों से रुपए एंठने में सफल रहता था उसे रैकेट ऑपरेटर्स हर महीने एक लाख रुपए इनाम के तौर पर देते थे। इम्प्लॉइज कम से कम 100 कॉल हर रोज करते थे, इनमें से 10-15 कॉल्स पर आगे भी काम होता था, इस तरह 3-4 अमेरिकी लोगों को तो फंसा ही लेते थे।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Scamsters in the recently busted multi-crore call centre racket were using well-known people search websites, which provide a person's name and addresses, to gauge a potential victim's ability to pay as part of their illegal operations, police have revealed.
Please Wait while comments are loading...