हिंदुओं की अनदेखी पर सुषमा का जवाब, मैं धर्म देखकर नहीं करती मदद

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। ट्विटर पर लोगों की शिकायत सुनने और उस पर कार्रवाई कर कई लोगों के लिए हीरो बन चुकी विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को ट्विटर पर मुस्लिमों का पक्ष लेने और हिंदुओं की अनदेखी करने की बात कही गई है। हिंदू जागरण संघ नाम के ट्विटर हैंडल से किए गए ट्वीट में उन पर येआरोप लगाया गया है, जिस पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भी करारा जवाब दिया है।

हिंदुओं की अनदेखी पर सुषमा का जवाब, मैं धर्म देखकर नहीं करती मदद

हिंदू जागरण संघ ने अपने ट्वीट में सुषमा स्वराज पर आरोप लगाया कि वे सिर्फ मुस्लिमों के ही वीजा आवेदनों पर ध्यान देती हैं। जागरण संघ ने ट्वीट किया ''मोदी जी आपकी मंत्री सुषमा (सुषमा स्वराज) केवल मुसलमानों के वीजा पर ध्यान देती हैं। वहीं हिंदुओं को भारत का वीजा हासिल करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. ये बहुत दुखी करने वाला है।'' इसका जवाब देते हुए विदेश मंत्री ने ट्वीट किया ''भारत मेरा देश है. भारतीय मेरे लोग हैं. जाति, राज्य, भाषा या धर्म मेरे लिए अहमियत नहीं रखते।''

हिंदुओं की अनदेखी पर सुषमा का जवाब, मैं धर्म देखकर नहीं करती मदद

आपको बता दें कि सुषमा स्वराज ट्विटर पर काफी सक्रिय रहती हैं और अपने मंत्रालय के मातहत आने वाले कामों की कोई शिकायत या आवेदन वो ट्विटर पर देखती हैं, तो उसमें मदद करती हैं। वीजा को लेकर कई लोग सुषमा स्वराज को ट्वीट करते हैं, जिनको वो हर मुमकिन मदद करती हैं। इसके लिए सुषमा सोशल मीडिया पर बेहद लोकप्रिय भी हो गई हैं। भारतीय जनता पार्टी के दूसरे नेताओं के मुकाबले मुस्लिमों में भी सुषमा काफी लोकप्रिय हैं। बीते दिनों जब सुषमा स्वराज किडनी ट्रांसप्लांट के लिए एम्स में भर्ती थीं तो बड़ी तादाद में लोगों ने उनको अपनी किडनी देने की बात कही थी, इसमें ना सिर्फ भारत बल्कि अमेरिका और पाकिस्तान तक के लोग शामिल थे। कई मुस्लिम युवकों ने भी सुषमा स्वराज के कामकाज और व्यक्तित्व की तारीफ करते हुए उन्हें अपनी किडनी देने की बात कही थी। 

इसे भी पढ़ें- सुषमा स्वराज की सख्ती के बाद अमेजन ने रोकी तिरंगा वाले पायदान की बिक्री, वेबसाइट से हटाए

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Sushma Swaraj hits back hindu jagran sangh Accused for Muslim bias on visa applications
Please Wait while comments are loading...