15 मिनट में ही तबाह कर दिए थे कमांडोज ने आतंकी कैंप्‍स

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्‍ली। इंडियन आर्मी की सर्जिकल स्‍ट्राइक से जुड़ी खबरें 15 दिन बाद तक तक आ रही हैं। इस सर्जिकल स्‍ट्राइक से जुड़ीं कुछ और नई जानकारियांं सामने आई हैं। इन जानकारियों के मुताबिक कमांडोज ने एलओसी पार करते ही आतंकी कैंप्‍स पर हमला बोलना शुरू कर दिया था। कमांडोज का प्‍लान एलओसी पार करके टारगेट्स को पूरी तरह से खत्‍म कर देना था।

surgical-strike-commados

पढ़ें-पाक की नापाक साजिश, मछुआरों के भेष में जासूस!

पांच किलोमीटर के दायरे में टारगेट्स

एक अधिकारी की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक‍ किसी भी कमांडो का इरादा आतंकी को एनकाउंटर जैसी गतिविधि में व्‍यस्‍त करने का नहीं था।

सभी टारगेट्स पांच किलोमीटर के दायरे में थे और ऐसे में यह कोई आसान काम नहीं था। स्‍पेशल फोर्सेज के कमांडोज को थर्मल इमेजर्स को भी चकमा देना था और एंटी-पर्सनल माइंस से भी खुद को बचाना था। अपने मिशन को अंजाम देते समय कमांडोज ने कोई भी छोटी गलती तक नहीं की थी।

पढ़ें-पाक सेना ने जताई इंडियन आर्मी से बातचीत की इच्‍छा

जल्द से जल्‍द पूरा करना था मिशन

इस पूरे ऑपरेशन को जल्‍द से जल्‍द निबटाने की ओर सबका ध्‍यान था। मिशन को एक तय समय में पूरा करना था और कमांडोज एक भी सेकेंड का समय बर्बाद नहीं कर सकते थे।

कमांडोज ने एलओसी को पार करने के बाद टारगेट्स पर ध्‍यान लगाया। कमांडोज को उनका मिशन पूरा करने में रूस में बनी एक खास तरह की बंदूक ने काफी मदद की।

इस बंदूक को फायरिंग करने में आग के गोले निकले हैं और इसने कमांडोज को आतंकी कैंप्‍स तबाह करने में काफी मदद की।

पढ़ें-क्‍यों एलओसी पर हुई सर्जिकल स्‍ट्राइक को भारत ने नहीं दिया कोई नाम

15 मिनट से भी कम समय और काम तमाम

क‍मांडोज ने सात लॉन्‍च पैड्स को निशाना बनाया और टुकड़ों में बंटी हुई कमांडोज की टीम अपने मिशन को अंजाम देने में लगी हुई थी।

हर टीम ने 15 मिनट से भी कम का समय लगा था। कमांडोज लगातार अपने टारगेट्स को बर्बाद करने में लगे हुए थे। लीपा, केल, भीमबेर, अथमुकाम और टट्टापानी स्थित कैंपो को निशाना बनाया गया था।

पढ़ें-पाक में 'सर्जिकल स्ट्राइक इफेक्ट', ISI चीफ की होगी छुट्टी

सिर्फ सफल होकर ही लौटना था

अपने मिशन को अंजाम देने के बाद हर कमांडो को अपने बेस पर वापस लौटना था। उन्‍हें इस बारे में बता दिया गया था कि वह अपने मिशन को अंजाम दें और फौरन वापस लौटें।

कमांडोज भी किसी भी कीमत पर अपने मिशन को अंजाम देने के लिए रेडी थे। मिशन पर जाने से पहले कमांडोज को बता दिया गया था कि उन्‍हें किसी भी कीमत पर सफल होकर ही वापस लौटना है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Surgical strikes: Each terror launch pad was destroyed within 15 minutes.
Please Wait while comments are loading...