सुप्रीम कोर्ट के जज ने पत्र लिखकर कहा, 'नहीं आऊंगा कोलेजियम की मीटिंग में'

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट के पांचवें सबसे वरिष्ठ जज जे चेलामेश्वर ने कहा कि उन्होंने कोलेजियम की मीटिंग में जाना बंद कर दिया है। उन्होंने कहा कि भारत के मुख्य न्यायाधीश के की अध्यक्षता में चल रही इस प्रक्रिया को सबसे अपारदर्शी कह दिया है।

court

साथ ही उन्होंने कहा कि अधिकतर लोग एक साथ मिलकर गलत उम्मीदवार के चुनाव पर उठने वाले सवाल को दबाने का काम कर रहे हैं। जज चेलामेश्वर ने कहा कि उन्होंने एक पत्र भी बता दिया है कि वह कोलेजियम की मीटिंग में अब शामिल नहीं होंगे। उनका मानना है कि जजों की नियुक्ति की प्रक्रिया पारदर्शी नहीं है।

दस तस्वीरों में देखिए वियतनाम में पीएम मोदी के 10 अंदाज

वे बोले कि कोई भी कारण या कोई भी राय रिकॉर्ड नहीं की जाती है। सिर्फ दो लोग नाम चुनते हैं और मीटिंग में आकर अन्य लोगों की हां और ना पूछते हैं। उन्होंने इस बात सवाल उठाते हुए कहा कि क्या सुप्रीम कोर्ट या हाईकोर्ट के किसी जज की नियुक्ति इस तरह से की जा सकती है?

हरियाणा के पूर्व CM हुड्डा और उनके सहयोगियों के 20 ठिकानों पर CBI का छापा

चेलामेश्वर ने सवाल किया कि अगर कोई भ्रष्ट व्यक्ति सुप्रीम कोर्ट के जज के लिए चुना जाता है और कोलेजियम का कोई सदस्य कहता है कि चुने जा रहे उम्मीदवार के खिलाफ उसके पास गंभीर सबूत हैं तो क्या ऐसा इंसान की नियुक्ति महज ये देखकर होनी चाहिए कि कितने लोग उसे जज बनाने के पक्ष में हैं और कितने नहीं, या फिर उस एक आदमी द्वारा दिए जा रहे सबूतों पर भी गौर करना चाहिए?

क्या चुनावी मैच जिता पायेगा सिद्धू का आवाज-ए-पंजाब स्ट्रोक?

चेलामेश्वर द्वारा ऐसे ही कुछ सवाल कोलेजियम से पूछे, लेकिन इनका उन्हें कोई जवाब नहीं मिला, जिसके बाद उन्होंने सीजेआई को पत्र लिखकर सूचित कर दिया कि वह सीजेआई की बैठक में शामिल नहीं हो सकते हैं।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
supreme court judge said i will not attend the meeting of collegium
Please Wait while comments are loading...