बैंक की लाइन में लगी महिला की दर्दनाक मौत, नोटबंदी की वजह से एक दिन में गई 6 जानें

नोटबंदी की वजह से देशभर में एक दिन में कम से कम छह लोगों की मौत हो गई। किसी ने खुदकुशी कर ली तो कोई लाइन में गिरकर मर गया।

Subscribe to Oneindia Hindi

दिल्ली। देश में नोटबंदी की वजह से लगातार मौतों की खबरें आ रही हैं। मंगलवार को भी नोट बैन की वजह से कम से कम सात लोगों की जान चली गई। राजकोट, केरल के कोल्लम और कोट्टयम, मोहाली और बांदा से लोगों के मरने की सूचनाएं मिली हैं।

Read Also: बागपत में बैंक के बाहर लोगों पर पुलिस ने बरसाईं लाठी, 5 गंभीर

death after note ban

मोहाली में बैंक की लाइन में लगी महिला की मौत

57 साल को रोशनी देवी मोहाली में एसबीआई के ब्रांच में लाइन में खड़ी होकर अपनी बारी का इंतजार कर रही थीं। वह अपनी भतीजी की शादी के लिए पैसा निकालने गई थीं। लाइन में खड़ी रोशनी ने शॉल ओढ़ रखा था जिसका एक छोर बैंक के जेनरेटर में फंस गया और दम घुटने से महिला की दर्दनाक मौत हो गई।

केरल के कोल्लम में लाइन में लगे बुजुर्ग की मौत

रिटायर्ड बीएसएनएल कर्मी 68 साल के चंद्रशेखरन पैसा निकालने के लिए स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर की ब्रांच में लाइन में खड़े थे। सुबह में लंबी लाइन देखकर वह एक बार लौटकर घर चले गए थे लेकिन लंच टाइम के बाद वे फिर आए और लाइन में लग गए। अचानक वह गिर गए और उनकी मौत हो गई।

राजकोट में एक ने लगा ली फांसी

45 साल के त्रिभुवन सोलंकी ने कैश नहीं होने की वजह से फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। वह बेटी की शादी के लिए पैसों का इंतजाम करने में लगे थे। उनके बेटे के अनुसार, डिमोनेटाइजेशन के बाद वह तनाव में जी रहे थे। इस वजह से उन्होंने आत्महत्या की है।

कोट्टयम में बुजुर्ग ने कर ली खुदकुशी

73 साल के बुजुर्ग ओमनकुट्टन पिल्लई ने केरल के कोट्टयम में फांसी लगाकर जान दे दी। उन्होंने 5 लाख रुपए को-ऑपरेटिव बैंक में जमा कर रखा था। बताया जा रहा है कि ओमनकुट्टन यह सोचकर तनाव में जी रहे थे कि डिमोनेटाइजेशन की वजह से उनके जीवन की जमापूंजी डूब गई है।

बांदा में तीन साल की बच्ची की मौत

धर्मेंद्र, बुखार से तप रही बेटी को लेकर इलाहाबाद ग्रामीण बैंक में रुपया निकालने गए थे ताकि इलाज कराने के लिए पैसे मिल सके। बेटी की खराब हालत को देखते हुए लाइन में खड़े धर्मेंद्र को लोगों ने बैंक के अंदर पहले भेज दिया लेकिन जब तक वह बाहर निकले तब तक उनकी बेटी मर चुकी थी।

बीएससी के स्टूडेंट ने लगा ली फांसी

बांदा में ही 19 साल का एक छात्र सुरेश प्रजापति जब फीस के लिए बार-बार बैंक में जाने के बाद भी पैसा नहीं जुटा पाया तो उसने फांसी से लटककर जान दे दी।

Read Also: मजदूर पिता बैंक की लाइन में खड़ा रहा, बुखार से 3 साल की मासूम की मौत

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
At least six people died in country due to note ban. Cash scarcity and health issues are the major reasons of death.
Please Wait while comments are loading...