गंगा में तैरकर कानपुर से वाराणसी तक जाएगी यह तैराक बिटिया, 'जलपरी' के नाम से है मशहूर

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

कानपुर बारिश के मौसम और गंगा के तेज बहाव के बावजूद कानपुर की एक बेटी निकल पड़ी है एक नामुमकिन से दिखने वाले लक्ष्य को ​हासिल करने। दरअसल, श्रद्धा शुक्ला नाम की यह लड़की इनदिनों देशभर में 'जलपरी' के नाम से चर्चित है।

बारिश के मौसम और गंगा के तेज बहाव के बावजूद कानपुर की एक बेटी निकल पड़ी है एक नामुमकिन से दिखने वाले लक्ष्य को ​हासिल करने। दरअसल, श्रद्धा शुक्ला नाम की यह लड़की इनदिनों देशभर में 'जलपरी' के नाम से चर्चित है।

पढ़ें : TOP 5: जानिए डब्ल्यूडब्ल्यूई इतिहास के इन पांच सबसे दिग्गज सुपरस्टार्स के बारे में

जानिए क्या है इसकी वजह

श्रद्धा शुक्ला को लोग जलपरी इसलिए कह रहे हैं क्योंकि वह कुछ ऐसा करने जा रही हैं जिसे सुनकर आप खुद भी चौंक सकते हैं। जी हां, श्रद्धा ने अपने होमटाउन कानपुर से टेम्पलटाउन कहे जाने वाले वाराणसी तक गंगा में तैरकर जाने का प्रण लिया है। इतना ही नहीं, वह इस काम की शुरुआत भी कर चुकी हैं।

...तो इसलिए कर रही हैं ऐसा

श्रद्धा 570 किलोमीटर की इस दूरी को गंगा में तैरकर यूं ही नहीं पूरी कर रही हैं। उनका मकसद है कि लोग उनकी प्रतिभा को पहचान सकें और उन्हें ओलंपिक में जगह मिल सके। यूं तो बरसात के मौसम में उफनती गंगा में तैराकी करने के नाम पर अच्छे-अच्छों के पसीने छूट जाते हैं। लेकिन कानपुर की यह 11 साल की लड़की रिकॉर्ड बनाने के लिए निकल पड़ी है।

पढ़ें : दिलशान ने संन्यास के बाद बताई मन की बात तो हो गए भावुक

सफ़र ऐसे करेंगी पूरा श्रद्धा

कानपुर से बनारस तक की 570 किलोमीटर की दूरी को तय करने के लिए श्रद्धा हर दिन तकरीबन 60 किलोमीटर तैरेंगी। इस लिहाज से देखा जाए तो वह आगामी 10 दिनों में बनारस पहुंच जाएंगी।

श्रद्धा ने कल यानी 29 अगस्त को कानपुर स्थि मैसाकर घाट से अपने सफर की शुरुआत की। इस सफर में श्रद्धा 4-5 घंटे के बाद विराम करेंगी और हर दिन औसतन सात घंटे तैरेंगी।

ये लोग होंगे सफर में साथ

श्रद्धा गंगा में यह लंबा सफर अकेले ही नहीं पूरा करेंगी। इस दौरान उनकी निगरानी के लिए श्रद्धा के पिता ललित शुक्ला और चार अन्य गोताखोर भी रहेंगे। ललित खुद गोताखोर हैं और अपनी बेटी के ट्रेनर भी। इसके साथ ही सफर में अगर किसी तरह का कोई जानवर आड़े आता है तो उसके लिए श्रद्धा के साथ दो शूटर भी भेजे गए हैं।

2 साल की उम्र से तैराकी सीख रहीं श्रद्धा अगर अपने लक्ष्य को हासिल करने में सफल रहती हैं तो यकीनन भारत के लिए तैराकी में ओलं​पिक पदक के रास्ते भी खुल जाएंगे।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Swimmer from Uttar Pradesh, 11-year-old Shraddha Shukla, took up her biggest challenge on a humid Sunday morning — swim in the monsoon-fed, swollen Ganga from hometown Kanpur to temple town Varanasi. She will cover 570km in 10 days, with refreshment and washroom breaks, which is equivalent of 13 Olympic marathons of 42.195km on land. She will be swimming about 60km a day, taking a break every four to five hours.
Please Wait while comments are loading...