शहाबुद्दीन के जेल से छूटने के बाद सीवान में है दहशत, जानें क्यों

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। बाहुबली नेता और आरजेडी के पूर्व सांसद रह चुके मोहम्मद शहाबुद्दीन बीते सप्ताह जेल से रिहा हो गए। इसके बाद से ही सीवान जिले में दहशत का माहौल बना हुआ है। हालात ​इस कदर बिगड़े हैं कि दो स्थानीय नेताओं ने शहाबुद्दीन से अपनी जान को खतरे का अंदेशा जताया तो पुलिस को उन्हें विशेष सुरक्षा मुहैया करानी पड़ी है।

shahabuddin, mohd shahabuddin, ranjan dev murder case, शहाबुद्दीन, सीवान में मोहम्मद शहाबुद्दीन, मर्डर, क्राइम, जुर्म, दहशत, journalist ranjan dev murder case, siwan, siwan police, RJD, RJD MP mohd shahabuddin, murder, crime, अपराध, बिहार, सीवान, बिहार में अपराध

हिंदी के वो 14 शब्द जो हमारे जीवन में रखते हैं खास महत्व

गवाहों की भी सुरक्षा बढ़ाई

इतना ही नहीं, शहाबुद्दीन मामले से जुड़े दो अहम गवाहों की सिक्योरिटी में भी इजाफा करना पड़ा है। यूं देखा जाए तो सीवान जिले में अब तक कुल 20 लोगों को विशेष सुरक्षा मुहैया कराई जा चुकी है क्योंकि इनको शहाबुद्दीन से जान का खतरा बताया जा रहा है।

शहाबुद्दीन से दुश्मनी है वजह

सीवान के एसपी सौरभ साह ने कहा कि जिन लोगों का सुरक्षा मुहैया कराई गई है, उनकी शहाबुद्दीन से राजनैतिक या निजी दुश्मनी है। जबकि गवाहों की लिस्ट में चंद्रकेश्वर प्रसाद उर्फ चंदा बाबू को भी सुरक्षा मुहैया कराई गई है। ये वही हैं जिनके तीनों बेटों की हत्या कर दी गई थी।

16 वर्षीय किशोरी को जबरन शादी के लिए बेचा, 4 गिरफ्तार

मार दिए गए थे एक बाप के तीन बेटे

वर्ष 2004 में चंदा बाबू के दो बेटे सतीश और गिरीश मार दिए गए जबकि तीसरे बेटे राजीव रोशन की 2014 में हत्या कर दी गई। मौत के कुछ दिन बाद ही राजीव शहाबुद्दीन मामले में बयान दर्ज कराने वाला था।

shahabuddin, mohd shahabuddin, ranjan dev murder case, शहाबुद्दीन, सीवान में मोहम्मद शहाबुद्दीन, मर्डर, क्राइम, जुर्म, दहशत, journalist ranjan dev murder case, siwan, siwan police, RJD, RJD MP mohd shahabuddin, murder, crime, अपराध, बिहार, सीवान, बिहार में अपराध

फिर स​क्रिय हो सकते हैं अपराधी

इन सभी के अलावा श्रीकांत भारती मर्डर केस के गवाह को भी स्पेशल सिक्योरिटी दी गई है। पुलिस की मानें तो शहाबुद्दीन के जेल से आजाद होने के बाद लगभग निष्क्रिय हो चुके अपराधी और शूटर्स फिर से सक्रिय हो सकते हैं। हालांकि, पुलिस इन सभी की गतिविधियों पर नजर रखे हुए है।

VIDEO : सुशांत सिंह के सामने गि​ड़गिड़ाए धोनी, जानिए क्यों

मोहम्मद कैफ के लिए छापेमारी

जब सीवान एसपी से पूछा गया कि शनिवार को शहाबुद्दीन के साथ मोहम्मद कैफ उर्फ बंटी दिखा था, उसका क्या हुआ तो उन्होंने बताया कि उसे ढूंढने के लिए बीते दो दिनों से छापेमारी की जा रही है।

राजदेव रंजन हत्याकांड से जुड़ाव

पुलिस की मानें तो यह मोहम्मद कैफ ही था जो कि शहाबुद्दीन को पत्रकार राजदेव रंजन के बारे में सभी सूचनाएं देता था। राजदेव रंजन की ​कथित तौर पर शहाबुद्दीन के इशारे पर 13 मई को मार दिया गया था। कैफ अपने साथी जावेद भाट के साथ सीवान की एक ​क्रिकेट एकेडमी चलाता है। राजदेव रंजन की हत्या के बाद से ही वह गिरफ्तारी से बचने के लिए बचता फिर रहा है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Siwan police have provided security to two local leaders after the release of former RJD MP Mohd Shahabuddin. police have provided security to total 20 people in Siwan district who face threat from the murder convict.
Please Wait while comments are loading...