बुलंदशहर गैंगरेप केस: सुप्रीम कोर्ट ने मीडिया को दिया आजम खान के बयान की बाइट देने का आदेश

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को मीडिया संस्‍थानों को यूपी के शहरी विकास मंत्री आजम खान की वह बाइट मुहैया कराने का आदेश दिया जिसमें उनपर बुलंदशहर गैंगरेप केस में विवादित बयान देने का आरोप है।

आजम खान ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि उन्होंने कोई भी आपत्तिजनक बयान नहीं दिया था। उन्‍होंने नहीं कहा कि गैंगरेप के पीछे राजनीतिक साजिश है। आजम खान के वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि आजम के बयानों को तोड़-मरोड़कर पेश किया गया।

बुलंदशहर गैंगरेप मामले पर आजम खान के बयान से ​राजनीतिक घमासान तेज

इसके साथ ही काेर्ट ने 17 नवंबर तक आजम खान को इस मामले में अपना जवाब 17 नवंबर तक दाखिल करने का भी आदेश दिया है।

आजम खान ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि उन्होंने कोई भी आपत्तिजनक बयान नहीं दिया था। उन्‍होंने नहीं कहा कि गैंगरेप के पीछे राजनीतिक साजिश है। आजम खान के वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि आजम के बयानों को तोड़-मरोड़कर पेश किया गया।

कोर्ट ने साथ ही इस मामले में मीडिया की भी जवाबदेही की जांच करने के भी आदेश दिए हैं। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इस तरह के बयान से कोई भी व्यक्ति मानहानि का केस दाखिल कर सकता है, लेकिन रेप केस में पीड़िता जनहित के तहत भी कोर्ट आ सकती है।

संसद में गूंजा बुलंदशहर रेप केस का मामला, भाजपा सांसद ने मांगा अखिलेश का इस्तीफा

कोर्ट का मानना है कि यह भड़काऊ भाषण का मामला नहीं है बल्कि यह रेप पीड़िता के सम्मान और लंबित जांच पर सवाल है। आजम खान इससे पहले सुनवाई में पेश नहीं हुए थे और तब कोर्ट ने नाराजगी जताई थी।

दरअसल, आजम खान पर इस पूरी घटना को कथित रूप से राजनीतिक षड्यंत्र बताने का आरोप था और इसी के चलते गैंगरेप पीड़िता के पिता की अपील पर कोर्ट ने संज्ञान लिया और आजम खान को नोटिस जारी किया था।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
SC asks media to submit byte of Azam Khan on Bulandshahr gang-rape case.
Please Wait while comments are loading...