'सद्दाम हुसैन' को भारत में नहीं मिल रही नौकरी

By: BBC Hindi
Subscribe to Oneindia Hindi
सद्दाम हुसैन
AP
सद्दाम हुसैन

इराक़ के नेता सद्दाम हुसैन को फांसी दिए दस साल से ज़्यादा समय बीत चुका है लेकिन अब भी कोई है जो उनके नाम की कीमत चुका रहा है.

सद्दाम हुसैन नाम के 25 साल के एक भारतीय मरीन इंजीनियर को अब तक 40 बार नौकरी देने से इनकार किया जा चुका है.

हालांकि उनके नाम की स्पेलिंग इराक़ के तानाशाह के नाम से अलग है लेकिन फिर भी उनकी दिक्कतें कम नहीं हो रही.

उनके दादा ने उनका नाम सद्दाम हुसैन रखा था लेकिन वो अपने दादा को अपनी परेशानी के लिए ज़िम्मेदार नहीं मानते.

सद्दाम हुसैन का महल देखना चाहेंगे?

सीआईए एजेंट जिसने असली सद्दाम को पहचाना

सद्दाम हुसैन
Getty Images
सद्दाम हुसैन

नौकरी मिलने में आ रही अड़चन के चलते उन्होंने अपना नाम बदलने का फ़ैसला किया लेकिन इस प्रक्रिया में वक्त लग रहा है इसलिए नौकरी मिलने में भी देरी हो रही है.

कंपनियों का डर

झारखंड के जमशेदपुर के रहने वाले सद्दाम हुसैन को तमिलनाडु की नूरुल इस्लाम यूनिवर्सिटी से पढ़ाई पूरी किए दो साल बीत चुके हैं लेकिन वो अब तक खाली बैठे हैं.

जहां उनके सहपाठियों को नौकरियां मिल चुकी है वहां अच्छे अंकों से पास होने के बावजूद सद्दाम हुसैन को शिपिंग कंपनियां खाली हाथ लौटा देती हैं.

अब साजिद बन चुके सद्दाम ने हिंदुस्तान टाइम्स अख़बार को बताया " लोग मुझे नौकरी देने से डरते हैं ."

ट्रेनों का क़ब्रिस्तान और सद्दाम का वो ड्राइवर

सद्दाम हुसैन का हमनाम होने के ख़तरे

सद्दाम हुसैन
Getty Images
सद्दाम हुसैन

वो कहते हैं कि शायद कंपनियां इस बात से डरती हैं कि अंतरराष्ट्रीय सीमाओं पर अप्रवासन अधिकारियों से सद्दाम हुसैन का सामना होगा तो क्या होगा?

अदालत का चक्कर

सद्दाम मानते हैं कि नया पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस और अन्य कागज़ात बनवा लेने से उनकी दिक्कतें कम हो जाएंगे.

लेकिन नए नाम के साथ वो कंपनियों के सामने साबित नहीं कर पा रहे कि स्कूल के जो सर्टिफ़िकेट हैं वो उनके हैं, इस पूरी प्रक्रिया में काफ़ी वक्त लग रहा है.

शिक्षण विभाग सेकेंड्री स्कूल के प्रमाणपत्रों में उनका नाम बदल दे इसके लिए वो अदालत गए हैं और पांच मई को अगली सुनवाई होनी है.

स्कूल के सर्टिफ़िकेट के बाद कॉलेज के कागज़ात में नाम बदलने की बारी आएगी.

इराक़: सद्दाम हुसैन के सहयोगी की 'हत्या'

सद्दाम हुसैन: 'क्रांतिकारी' बन गया था 'तानाशाह'

सद्दाम हुसैन
AFP/Getty Images
सद्दाम हुसैन

सद्दान हुसैन होने का दंश सिर्फ भारत के इंजीनियर को ही नहीं झेलना पड़ रहा बल्कि इराक़ में भी ऐसे किस्से सामने आ चुके हैं.

रामादी में काम कर रहे सद्दाम नाम के एक पत्रकार ने बताया कि इराक़ में उनके पिता को बेटे का नाम सद्दाम रखने की वजह से सरकारी नौकरी से हाथ धोना पड़ा था.

एक शख्स ने बताया कि शिया लड़ाकों ने उसे पकड़कर बंदूक तान दी थी, लेकिन बंदूक जाम होने की वजह से वो बच पाए.

समाचार एजेंसी एएफ़पी के इराक़ ब्यूरो चीफ़ प्रशांत राव बताते हैं कि बग़दाद में एक कुर्द स्कूली बच्चे को वो जानते थे जिसका नाम सद्दाम हुसैन था.

उसके साथी अक्सर फ़ुटबॉल खेलते हुए कहते थे, ''सिर्फ हम ही नहीं पूरा इराक़ तुमसे नफ़रत करता है.''

BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Saddam Hussein could not get job in India.
Please Wait while comments are loading...