पिछले दो साल में मोदी सरकार ने 1100 करोड़ से अधिक प्रचार में खर्च किए

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के फैसले के बाद आगामी चुनावों को लेकर तमाम राजनीतिक दलों की मुश्कलें बढ़ गई है। जिस तरह से बड़ी मात्रा में चुनावों में कालाधन खर्च किया जाता है वह हमेशा से चर्चा में रहता है।

central government

एक तरफ जहां नोटबंदी के फैसले के बाद कयास लगाए जा रहे हैं कि आगामी चुनावों में पैसों के खर्च पर नियंत्रण लगेगा। लेकिन इस बीच मोदी सरकार के प्रचार-प्रसार के दौरान खर्च राशि आपको चौंका सकती है।

VIDEO: मोदी के मंत्री ने कहा, छापे जा रहे हैं 5000 के नोट!

आरटीआई में हुआ खुलासा
पिछले दो सालों में मोदी सरकार ने प्रचार-प्रसार में 11 अरब रुपए खर्च कर दिए हैं। यह खुलासा आरटीआई के द्वारा हुआ है। नोएडा के आरटीआई एक्टविस्ट रामवीर सिंह ने सूचना और प्रसारण मंत्रालय से इस बाबत जानकारी मांगी थी।

इन माध्यमों पर खर्च हुए पैसे

जो जानकारी सामने आई है उसके अनुसार मोदी सरकार ने अगस्त 2016 तक प्रचार-प्रसार में 11 अरब, 11 करोड़ और 78 लाख रुपए खर्च किए हैं। यह राशि रेडियो, टीवी, ऑनलाइन मीडिया, डिजिटल सिनेमा, दूरदर्शन, प्रोडक्शन, एसएमएस आदि पर खर्च की गई है।

हर साल का लेखा-जोखा

एक जून 2014 से 31 मार्च 2015 तक कुल 4.48 करोड़ रुपए खर्च हुए जबकि 1 अप्रैल 2015 से 31 मार्च 2016 तक 5.42 अरब व 1 अप्रैल 2016 से 31 अगस्त 2016 तक 1.20 अरब रुपए खर्च कर दिए गए हैं।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
RTI reveals Modi government has spent huge amount of money on advertisement. This data of last two year is more than 1100 crore .
Please Wait while comments are loading...