नोटबंदी के बाद जन धन खातों में जमा कराए गए 87000 करोड़, आयकर विभाग की नजर तेज

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। जन धन योजना के तहत खुलवाए गए खातों में नोटबंदी के बाद करीब 87000 करोड़ रुपये जमा कराए जाने का आंकड़ा सामने आया है। 8 नवंबर के बाद जनधन खातों में जमा कराई गई रकम की पड़ताल आयकर विभाग के अधिकारी बारीकी से कर रहे हैं। देश में करीब 48 लाख बैंक अकाउंट की छानबीन की जा रही है। नोटबंदी की घोषणा होने के बाद जनधन खातों में पैसे जमा कराए जाने में तेजी आई है। जांच के दौरान पता चला कि कई बैंक अकाउंट में 30000 से 50000 रुपये तक जमा कराए गए और 4.8 लाख खातों में यह रकम करीब 2000 करोड़ तक हो गई।

नोटबंदी के बाद जन धन खातों में जमा कराए गए 87000 करोड़, आयकर विभाग की नजर तेज

एक सप्ताह में 20000 करोड़ जमा
इन खातों में ज्यादातर रकम नोटबंदी की घोषणा होने के पहले हफ्ते में ही जमा कराई गई है। पहले सप्ताह में जनधन खातों में 20224 करोड़ रुपये जमा कराए गए। इसके बाद यह आंकड़ा 5000 करोड़ रुपये प्रति सप्ताह हो गया। जनधन खातों में तेजी से जमा कराई गई रकम पर आयकर विभाग के अधिकारियों की नजर है। एक अधिकारी ने कहा, 'सभी खातों में जमा कराया गया पैसा सही नहीं है। कुछ खातों में बेहद ज्यादा रकम जमा कराई गई और यह स्पष्ट होता है कि काला धन सफेद करने के लिए जनधन खातों का इस्तेमाल किया गया है। कालाधन रखने वालों ने इन्हें लालच देकर अपना काम करवाया होगा।'

पढ़ें: पुराने नोट बदलने के लिए आरबीआई ने दिया एक और मौका, जानिए क्या है प्रक्रिया

कुछ खातों में अनुमान से ज्यादा पैसा
अधिकारी ने कहा कि जनधन खातों में जमा कराए गए पैसों और उसके सोर्स की जानकारी जुटाई जा रही है। अगर किसी भी खाते में दूसरे का पैसा मिलता है तो जरूरी कार्रवाई की जाएगी। बता दें कि 8 नवंबर 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कालेधन पर लगाम लगाने के उद्देश्य से 500 रुपये और 1000 रुपये के नोटों को चलन से बाहर करने की घोषणा की थी। उनकी जगह 2000 रुपये और 500 रुपये के नए नोट जारी किए गए। प्रधानमंत्री ने पुराने नोट जमा कराने और बदलने के लिए लोगों को 50 दिन का वक्त भी दिया था। इसकी आखिरी तारीख 30 दिसंबर थी।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Rs 87000 crore deposited into Jan Dhan accounts after demonetisation announced.
Please Wait while comments are loading...