रिपोर्ट: रोहित वेमुला ने मर्जी से की थी खुदकुशी, नहीं थे दलित

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। रोमित वेमुला केस में छानबीन के बाद इलाहाबाद हाईकोर्ट के पूर्व जज ए के रुपनवाल ने एक रिपोर्ट जारी की है। इस रिपोर्ट के अनुसार रोहित वेमुला की मां दलित नहीं थी, बल्कि उन्होंने सिर्फ अपने आप को एक दलित की तरह पेश किया था।

vemula

खुशखबरी: एयरटेल यूजर 25 रुपए में पाएं 1 जीबी डेटा, जानिए कैसे

रिपोर्ट के अनुसार रोहित वेमुला को हॉस्टल से निकालना पूरी तरह से उचित था। 26 साल के रोहित वेमुला ने निजी कारणों के चलते खुदकुशी की थी, न कि जाति को लेकर हुए किसी भेदभाव के चलते।

इतना ही नहीं, रिपोर्ट के अनुसार केन्द्रीय मंत्री बंडारू दत्तात्रेय और स्मृति ईरानी सिर्फ अपना दायित्व निभा रहे थे, उन्होंने हैदराबाद केन्द्रीय विश्वविद्यालय पर किसी तरह का दबाव नहीं डाला था।

71 साल के बुजुर्ग को प्यार में फंसाया, अश्लील बातें रिकॉर्ड कर ब्लैकमेल किया

आपको बता दें कि रोहित वेमुला द्वारा हॉस्टल के कमरे में खुदकुशी करने के 11 दिन बाद तत्कालीन मानव संसाधन मंत्री ने 28 जनवरी को इलाहाबाद हाईकोर्ट के पूर्व जज ए के रुपनवाल को इस केस की छानबीन कर रिपोर्ट पेश करने की जिम्मेदारी सौंपी थी।

रूपनवाल ने इस केस को लेकर 41 पन्नों की रिपोर्ट पेश की है। इस रिपोर्ट को बनाने के लिए उन्होंने 50 लोगों से बात की है। इनमें से अधिकतर लोग यूनिवर्सिटी के अध्यापक, अधिकारी या फिर स्टाफ के सदस्य हैं। इस रिपोर्ट को बनाने के लिए रूपनवाल यूनिवर्सिटी के 5 छात्रों से भी मिले।

नायक से खलनायक बने ओमपुरी ने कहा, हां माफी ही काफी नहीं...

इस रिपोर्ट के अनुसार वेमुला का खुदकुशी करने का फैसला उसका अपना था। वेमुला पर न तो विश्वविद्यालय प्रशासन ने न ही सरकार ने कोई दबाव डाला था। हालांकि, जब रूपनवाल से इंडियन एक्सप्रेस ने इस रिपोर्ट पर बात करनी चाही तो उन्होंने कोई भी टिप्पणी करने से मना कर दिया।

रूपनवाल ने अपनी रिपोर्ट के 12 पन्नों के निष्कर्ष में से 4 पन्नों में सिर्फ रोहित की जाति को लेकर लिखा है। रोहित को उनकी मां वी राधिका ने पाला-पोषा था, इसलिए इस रिपोर्ट में रोहित की मां राधिका को माला (एससी) समुदाय का न होने की बात साबित करने पर जोर दिया गया है।

'सर्जिकल स्ट्राइक' में 5 पाक सैनिक भी मारे गए, CNN का दावा, सामने आया पाक का झूठ

रूपनवाल की इस रिपोर्ट के अनुसार राधिका का कहना है कि उनका पालन-पोषण करने वाले माता-पिता ने बताया था कि राधिका के जैविक माता पिता दलित थे।

रूपनवाल ने कहा है कि जब राधिका को पालने वालों ने उनके असली माता-पिता का नाम ही नहीं बताया तो उन्हें ये कैसे पता चला कि वे दलित थे। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि राधिका ने खुद को दलित सिर्फ इसलिए बताया, ताकि रोहित वेमुला को फायदा पहुंच सके।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
report said rohit vemula was not sc and blamed him for suicide
Please Wait while comments are loading...