खुशखबरी: पुराने 500-1000 के नोट जमा कराने का मिल सकता है एक और मौका

By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद सरकार एक बार फिर से आपको बड़ी खुशखबरी दे सकती है। जो लोग नोटबंदी के बाद भी पुराने नोट नहीं बदल पाए उन्हें एक बार फिर से मौका मिला है। माना जा रहा है कि रिर्जव बैंक ऑफ इंडिया लोगों को नोट बदलने के लिए एक और मौका दे सकती है। ये मौका सीमित समय और सीमित रकम के लिए होगा। ये उन लोगों के लिए होगा, जो किसी परेशानी की वजह से 30 दिसंबर तक पुराने नोट नहीं बदल पाए थे। माना जा रहा है कि ऐसे लोगों की मदद के लिए ही रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया एक बार फिर से बैंकों में पुराने नोट बदलने के लिए एक विंडो खोल सकती है।

 Relief from demonetisation: People may get another chance to deposit old notes in banks

दरअसल सेंट्रल बैंक के पास लोग अपनी अपील और अनुरोध लेकर पहुंच रहे हैं। बैंकों से लोग गुहार लगा रहे हैं कि उन्हें पुराने नोट बदलने का मौका मिले। बैंकों में पहुंच रहे कई लोगों के पास तो 2000 रुपए के पुराने नोट है, जिसे वो बदलवाना चाह रहे हैं। लोग दलील दे रहे हैं कि ये वो नोट हैं, जिन्हें वो रखकर भूल गए थे और अब जाकर पुराने सामानों और कपड़ों के बीच उन्हें ये नोट मिले हैं। बैंक ऐसे ही लोगों की मदद के लिए रिजर्व बैंक से अपील कर रहा है कि उन्हें पुराने नोट बदलने के लिए एक मौका दिया जाए।

पढ़ें-सावधान! अगर करते हैं रिलायंस जियो का इस्तेमाल तो जरूर पढ़ें ये खबर

आपको बता दें कि केंद्र की मोदी सरकार ने 8 नवंबर 2016 को नोटबंदी का ऐलान किया और लोगों को 50 दिन का वक्त दिया पुराने नोट बदलने के लिए। लोगों को 500 और 1000 के पुराने नोटों को बदलने के लिए 30 दिसंबर तक का वक्त दिया गया। बैंकों, डाकघरों और आरबीआई सेंटर पर लोगों की लंबी-लंबी लाइनें लग गई, पुराने नोटों को बदलने के लिए। वहीं जो लोग इस सीमा में पुराने नोट नहीं जमा करवा सके उन्हें निश्चित कारण के साथ आरबीआई की शाखाओंमें 31 मार्च तक पुराने नोट बदलने का मौका दिया गया।

पढ़ें-अब बिना आधार कार्ड के नहीं मिलेगा सिम कार्ड, ईकेवाईसी होगा जरूरी

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
The Reserve Bank of India may allow citizens another chance to deposit the scrapped Rs 500 and Rs 1,000 banknotes but the exchange would be for a limited sum, sources in the government and banking sector said on Wednesday.
Please Wait while comments are loading...