18 साल की लड़की ने दिया नवजात को जन्म, पुलिस ने 12 साल के लड़के के खिलाफ मामला किया दर्ज

हैरान कर देने वाले घटना क्रम में पुलिस ने 12 साल के लड़के के खिलाफ 18 साल की लड़की को गर्भवती करने का मामला दर्ज किया है।

Subscribe to Oneindia Hindi

कोच्चिकेरल स्थित कोच्चि के कालामसरी पुलिस ने 12 वर्षीय लड़के के खिलाफ 18 साल की लड़की को गर्भवती करने के आरोप मे मामला दर्ज किया है।

पुलिस ने मामला तब दर्ज किया जब लड़की ने एक प्राइवेट अस्पताल में बच्चे को जन्म दिया। इतना ही नहीं पुलिस ने प्राइवेट अस्पताल के खिलाफ भी मामला दर्ज किया है।

लड़की को गर्भवती करने के आरोप में 12 वर्षीय लड़के को जुवेनाइल जस्टिस एक्ट की धारा 75 के तहत गिरफ्तार किया गया है। लड़के पर आरोप है कि उसने कथित तौर पर लड़की को गर्भवती किया।

baby

लड़की के उम्र के दावे में अंतर

पुलिस ने अस्पताल के प्रशासन के खिलाफ इसलिए मामला दर्ज किया है क्योंकि उन्होंने पुलिस को इस मामले की जानकारी ना देकर, प्रोटेक्शन आफ चिल्ड्रेन फार्म सेक्सुअल अफेंसेस एक्ट (पॉस्को एक्ट) का उल्लंघन किया था।

विदेशी मैगजीन ने प्रकाशित की दुष्कर्म की गलत खबर, भरना पड़ेगा 50 करोड़ का जुर्माना

इस मामले में एक ओर जहां पुलिस का कहना है कि लड़की अभी 17 साल 10 महीने की है वहीं अस्पताल प्रशासन का कहना है कि लड़की 18 वर्ष की हो चुकी है।

अस्पताल की ओर से इस मामले की कहा गया कि जब उन्हें इस बात की जानकारी हुई कि लड़की को 12 वर्षीय लड़के ने गर्भवती किया है, हमने इसकी जानकारी तुरंत चाइल्डलाइन को दे दी।

बकौल अस्पताल प्रशासन जब लड़की 4 नवंबर को अस्पताल से डिस्चार्ज हुई तो उससे जुड़ी सारी फाइलें चाइल्डलाइन को सौंप दी गई।

चाइल्डलाइन ने जताया शक

वहीं चाइल्डलाइन के लोगों ने इस बात पर शक जताया कि कैसे 12 साल का लड़का, लड़की को गर्भवती कर सकता है।

नवजात को 24 घंटे तक नहीं पिलाने दिया दूध, पिता गिरफ्तार

मसले पर चाइल्डलाइन के निदेशक फादर टॉमी एसडीबी ने कहा कि प्रोटोकॉल का पालन करते हुए अस्पताल ने हमें इसकी जानकारी 2 नवंबर को दे दी थी। हमने इस घटना के बारे में थ्रीककारा एसीपी को जानकारी दी थी।

कालामसरी के सर्किल इंस्पेक्टर जयकृष्णन का कहना है कि पुलिस को तब जानकारी दी गई जब लड़की ने बच्चे को जन्म दे दिया था।

पुलिस ने कहा दी जानी थी जानकारी

पुलिस के अनुसार पॉस्को एक्ट की धारा 18 के तहत हमें तुरंत जानकारी दी जानी चाहिए थी। ऐसा न कर पाने की दशा में अस्पताल के खिलाफ भी मामला दर्ज किया गया है।

रेप मामले पर महाराष्ट्र के मंत्री बोले- ऐसी घटनाएं तो होती रहती हैं

हालांकि चाइल्डलाइन और चाइल्ड वेलफेयर कमीशन के अधिकारियों ने अस्पताल का बचाव किया है।

अधिकारियों का कहना है कि पुलिस को जानकारी देना आवश्यक नहीं है। उन्होंने कहा कि जुवेनाइल जस्टिस एक्ट के तहत सूची बद्ध किसी भी एजेंसी को जानकारी दी जा सकती है।

वहीं लड़की के दादा-दादी ने नवजात शिशु को चाइल्ड वेलफेयर कमीशन को यह कहते हुए सौंप दिया है कि वो उसकी परवरिश नहीं कर सकते।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Police registered case against 12 year old boy after an 18 year old girl gave birth to a baby
Please Wait while comments are loading...