सोशल: 'मोदी जी दफ्तर बस में आएँ तो मानें'

By: BBC Hindi
Subscribe to Oneindia Hindi
लाल बत्ती की गाड़ी
AFP
लाल बत्ती की गाड़ी

भारत सरकार ने फैसला लिया है कि नेता और आला अधिकारी सड़कों पर चलते समय अब लाल बत्ती वाली गाड़ियों का इस्तेमाल नहीं करेंगे.

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बुधवार को एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा, "प्रधानमंत्री ने कैबिनेट को नीले, लाल और सफेद लाइट के इस्तेमाल के बारे में अपने फैसले के बारे में बताया है. उन्होंने कहा है कि 1 मई से नेताओं और आला अधिकारियों की गाड़ियों पर लाल बत्ती लगाई नहीं जाएगी."

उन्होंने कहा, "कानून की किताब में लाल बत्ती के संबंध में जो प्रावधान है उसे ही हटाया जा रहा है. नीली लाइट केवल इमरजेंसी सर्विस जैसे कि एंबुलेंस, पुलिस की गाड़ी या फायर ब्रिगेड पर की गाड़ियों लगेगी."

कार्टून: चप्पल वाले वीआईपी

उमा भारती 'लाल बत्ती हटाने' को ग़लत मानती हैं

नरेंद्र मोदी का ट्वीट
BBC
नरेंद्र मोदी का ट्वीट

इसके बाद आत्मानंद के ट्वीट का जवाब देते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने लिखा, "सभी भारतीय ख़ास हैं, सभी भारतीय वीआईपी है."

इस पर अमल करते हुए उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अपनी गाड़ी की एक तस्वीर ट्विटर पर पोस्ट की.

फूलपुर क्यों है यूपी की वीआईपी सीट?

'वीआईपी निकाले गए, बाक़ी को क्यों छोड़ा-'दी

त्रिवेंद्र सिंह रावत का ट्वीट
BBC
त्रिवेंद्र सिंह रावत का ट्वीट

मोदी सरकार के इस फैसले का कई लोग स्वागत कर रहे हैं.

वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने लिखा, "प्रधानमंत्री कह रहे हैं सभी भारतीय एक बराबर हैं. इसकी परीक्षा तब होगी जब कोई असल वीआईपी एयरपोर्ट पर कतार तोड़ कर आगे आएगें या ट्रैफिक में ख़ास सम्मान लेंगे."

कांग्रेस के नेता दिग्विजय सिंह ने भी इसके लिए मोदी सरकार को बधाई दी है. उन्होंने लिखा, "अब आप सभी भारतीयों को उसी प्रकार की सुरक्षा दें जो सभी वीआईपी लोगों को मिल रही है."

कीर्तीश का कार्टून
BBC
कीर्तीश का कार्टून

लेकिन सोशल मीडिया पर कई लोग सवाल कर रहे हैं कि क्या इससे वाकई वीआईपी कल्चर समाप्त हो जाएगा.

अविराज सिंह लिखते हैं, "वैसे तो हर भारतीय वीआईपी है लेकिन कुछ वीआईपी को हाईवे पर टोल नाकों पर पैसे नहीं देने पड़ते और कुछ को निजी सुरक्षा मिली हुई है."

अविराज सिंह का ट्वीट
BBC
अविराज सिंह का ट्वीट

अमृत दासगुप्ता पूछते हैं, "क्या वो लोग कमांडो सुरक्षा और कारों की लाइन को भी ख़त्म करेंगे?"

एवेंजर नाम के एक ट्विटर हैंडल ने लिखा, "मोदी जी दफ्तर जाने के लिए आप और आपके मंत्री बसों का इस्तेमाल कीजिए. नहीं तो लाल बत्ती के ख़िलाफ़ ये मुहिम एक धोखा है, जुमला है."

मधुमिता बार्कतकी ने लिखा, "गायक्वाड वीआईपी कल्चर का उदाहरण हैं, तभी तो वो बच गए."

मधुमिता बार्कतकी का ट्वीट
BBC
मधुमिता बार्कतकी का ट्वीट

शिव सेना सांसद रवींद्र गायक्वाड़ के हवाई यात्रा करने पर बैन लगाया गया था. उन पर एयर इंडिया के एक कर्मी ने उनके साथ मारपीट करने का आरोप लगाया है. बाद में बैन हटा लिया गया.

'गायकवाड़ के ख़िलाफ़ एफ़आईआर पर कार्रवाई हो'

'चप्पल मारने वाले' सांसद बोले- 'विनम्रता मेरे स्वभाव में'

शुभ्रांशु बनर्जी ने लिखा, "रेलवे और एयरपोर्ट पर वीआईपी लाउंज भी क्यों नहीं हटा देने चाहिए."

शुभ्रांशु बनर्जी का ट्वीट
BBC
शुभ्रांशु बनर्जी का ट्वीट

कालिम शेख लिखते हैं, "लाल बत्ती हटा लेने से वीआईपी कल्चर ख़त्म नहीं होगा, जो कि इसमें दिखता है....'जानते हो मैं कौन हूं.' "

BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
reaction on social media on the decision to end of vip culture
Please Wait while comments are loading...