15 किमी तक पीछा कर पूरी प्लानिंग से की गई थी अंसारी की हत्या

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

रांची। झारखंड के रामगढ़ जिले में जिस तरह से मीट व्यापारी की भीड़ ने पीट-पीटकर हत्या कर दी, उसके बाद पुलिस ने एक व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया है जिसपर आरोप है कि उसने हत्या के दिन पीड़ित का पीछा किया था, उसी ने घटना के मुख्य आरोपी को पीड़ित की पल-पल की जानकारी दी जिसके बाद उसने पीड़ित अलीमुद्दीन के साथ भीड़ में मारपीट की और उसे मौत क घाट उतार दिया।

झारखंड में गोरक्षकों ने पूरे षड़यंत्र के साथ अंसारी को उतारा था मौत के घाट

हाल ही में सदस्य बने थे गोरक्षा समिति के

पुलिस का कहना है कि राज कुमार को हाल ही में गोरक्षा समिति का सदस्य बना है, उसने अंसारी का पीछा किया था। अंसारी जब जब रामगढ़ बाजार से 29 जून को अपने घर से निकला था तो राज कुमार ने 15 किलोमीटर तक उसका पीछा किया था। राज कुमार को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है और उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। पुलिस ने यह भी बताया कि लैब टेस्ट में सैंपल की जो रिपोर्ट आई है उसमें बीफ था। अंसारी की मारूति वैन में जो मांस पाया गया है, वह टेस्ट में बीफ निकला है। जिस ग्रुप ने अंसारी पर हमला बोला था उसने पहले भी अंसारी के खिलाफ बीफ ले जाने की शिकायत की थी।

11 लोगों को किया गया गिरफ्तार

इस मामले में अभी तक कुल 11 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है, जिसमें भाजपा के जिला मीडिया इंचार्ज दीपक मिश्रा और मुख्य आरोपी छोटू वर्मा भी शामिल हैं, दोनों ही गोरक्षक समिति के सदस्य हैं। पुलिस के अनुसार कुमार चित्रपुर के रहने वाले हैं जोकि रामगढ़ में ही आता है। रामगढ़ के एसपी किशोर कौशल का कहना है कि मुख्य आरोपी ने ही राज कुमार को अंसारी का नंबर दिया था और उसने ही अंसारी की वैन का पीछा करने के लिए कहा था। कॉल रिकॉर्ड में भी यह बात सामने आई है कि मिश्रा और वर्मा दोनों ही संपर्क में थे। डीएसपी वीके चौधरी ने बताया कि कॉल रिकॉर्ड के अनुसार कुमार और वर्मा सुबह 7.39 बसे से ही आपस में संपर्क में थे, ये लोग दो घंटे तक अंसारी का पीछा करते रहे और अंसारी की लोकेशन के बारे में एक दूसरे को बता रहे थे, जिसके बाद यह लोग टांड बाजार में एक जगह पर इकट्ठा हुए, जहां इन लोगों ने अंसारी को सुबह 9.30 बजे रोका और उसे पीटना शुरू कर दिया।

पहले भी कर चुके थे शिकायत

सूत्रों का कहना है कि मिश्रा ने पूछताछ के दौरान बताया है कि उसने अंसारी को सिर्फ दो बार मारा था, जिसके बाद वहां इकट्ठा भीड़ ने उसे पीटना शुरू कर दिया। स्थानीय अधिकारी का कहना है कि इस ग्रुप के लोगों ने अंसारी को लाठी से मारा, इन लोगों ने पुलिस की लाठी से अंसारी को मारा जिसकी वजह से उसे गंभीर चोटें आई थी। आरोपी ने पहले भी अंसारी को गिरफ्तार कराने की कोशिश की थी, लेकिन वह इसमें सफल नहीं हो सके थे। ईद के कुछ दिन पहले भी मिश्रा और वर्मा ने इस मुद्दे को रामगढ़ पुलिस स्टेशन पर उठाया था ताकि इलाके में शांति बनी रहे। इन लोगों ने आरोप लगाया था कि यह लोग बीफ ले जाते हैं लेकिन पुलिस इन लोगों को रोकने में विफल रही है। इन लोगों को भरोसा था कि पुलिस इस मामले में कार्रवाई करेगी, इस घटना के कुछ दिन पहले जानवरों की तश्करी के आरोप में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया था।

PM Modi warns cow vigilantes: Killing in the name of cow is unacceptable | वनइंडिया हिंदी
देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Ramgarh lynching accused followed the victim for 15 km. BJP leader and go rakshak were in touch.
Please Wait while comments are loading...